छपरा,4 मई: स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर करने के लिए तीन साल पहले भारत द्वारा सरकार अनमोल एप की शुरुआत की गई। जिला भर में सेवा प्रदाता एएनएम के द्वारा दी जा रही रिप्रोडक्टिव एंड चाइल्ड हेल्थ आरसीएच सर्विसेस से संबंधित आंकड़ों का संधारण केवल आरसीएच रजिस्टर से ही किया जाएगा। इसके साथ ही एएनएम के द्वारा उन्हें उपलब्ध कराए गए टैबलेट के उपयोग से अनमोल एप के माध्यम से उक्त आंकड़ों को आरसीएच पोर्टल पर अपलोड करने के साथ ही आंकड़ों को अपडेट भी किया जाएगा । आरसीएच पोर्टल के माध्यम से गर्भवती महिलाओं एवं बच्चों को दी जा रही स्वास्थ्य सेवाओं की मॉनिटरिंग भी की जाएगी । ताकि लाभार्थियों को ससमय बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराकर मातृ और शिशु मृत्यु दर को कम से कमतर किया जा सके। इसको लेकर राज्य स्तर से दिशा-निर्देश दिया गया है। अनमोल एप के माध्यम से स्वास्थ्य विभाग नए दंपति का पंजीकरण, गर्भवती महिलाओं का पंजीकरण, नवजात शिशु का पंजीकरण, उप स्वास्थ्य केंद्र के सभी ग्रामीणों का डेटा लिंक सहित मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य, परिवार कल्याण एवं टीकाकरण कार्यक्रम से जुड़ी सेवाओं की सांख्यिकी एवं ऑनलाइन इंट्री दर्ज की जाती है। जहां पर शादी होने, गर्भवती और फिर शिशु के टीकाकरण तक का ब्यौरा प्रत्येक एएनएम अपने-अपने एरिया का दर्ज करती है।
मातृ-शिशु मृत्यु को कम करना है उद्देश्य:
राज्य स्वास्थ्य समिति से प्राप्त निर्देश के अनुसार आज से जिलाभर में आरसीएच पोर्टल और अनमोल एप के एएनएम द्वारा उपयोग को पूर्णतः लागू करना है। इसके लिए पहले ही सभी एएनएम को टैबलेट उपलब्ध करा दिया गया है। ताकि एएनएम के द्वारा स्वास्थ्य उपकेंद्र, क्षेत्र भ्रमण और वीएचएसएनडी सेशन के दौरान लाभार्थियों को दी जा रही आरसीएच सर्विसेस को अनमोल एप के माध्यम से आरसीएच पोर्टल पर शत प्रतिशत रजिस्ट्रेशन/ सर्विस डिलीवरी/ अपडेटेंशन कराया जा सके। इससे दी जा रही आरसीएच सर्विसेज की ट्रैकिंग प्रत्येक स्तर पर ससमय की जा सके और मातृ-शिशु मृत्यु को कम किया जा सके।
अनमोल एप से रियल टाइम मॉनिटरिंग:
डीपीएम अरविन्द कुमार ने बताया कि जिलों की राज्यस्तरीय समीक्षा बैठक में नए जिला रैंकिंग से संबंधित इंडीकेटर्स एवं प्रक्रिया पर चर्चा की गई। उक्त नई रैंकिंग में आरएमएनसीएच के इंडीकेटर्स का डेटा सोर्स आरसीएच पोर्टल पर ही उपलब्ध है। इससे आरसीएच पोर्टल में पूर्ण सही आंकड़ों की अनमोल एप से रियल टाइम मॉनिटरिंग, रजिस्ट्रेशन और अपडेटेशन एएनएम के द्वारा उनके पास टैबलेट का उपयोग करने से ससमय आसानी से हो सकता है। इसके साथ ही उक्त कार्यों की मॉनिटरिंग उपस्थित पदाधिकारी के द्वारा की जाएगी।

Previous articleग्रामीण डाक सेवक में निकली वैकेंसी, भारतीय डाक विभाग ने जारी किया अधिसूचना
Next article12 वर्ष से 17 वर्ष के किशोर एवं किशोरियों को दो खुराक व 18 वर्ष से 59 वर्ष के लाभार्थियों को दी जायेगी बूस्टर डोज

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here