बर्लिन : विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organisation) ने बच्चों में एक बेहद गंभीर बीमारी को लेकर अलर्ट किया है। WHO ने कहा कि यूरोप और संयुक्त राज्य अमेरिका (Europe and the United States) में बच्चों को प्रभावित करने वाले रहस्यमय लीवर की बीमारी के कारण पहली मौत की जानकारी मिली है।

बीते दिन शनिवार को, डब्ल्यूएचओ ने कहा कि उसे अब तक एक दर्जन देशों से “acute hepatitis of unknown origin” के कम से कम 169 मामलों की जानकारी मिली है।

एक महीने से 16 साल की उम्र के बच्चों में मामले सामने आए और उनमें से 17 बीमार बच्चों को लीवर ट्रांसप्लांट की जरूरत थी। एक बच्चे की मौत की खबर है। हालांकि, डब्ल्यूएचओ ने उस देश के नाम के बारे कोई सूचना नहीं दी है, जहां मौत की सूचना मिली है।

ब्रिटेन में पहला मामला
सबसे पहला मामला ब्रिटेन में देखा गया है। यहां 114 बच्चे इस अज्ञात हेपेटाइटस से बीमार हुए हैं। डब्ल्यूएचओ ने एक बयान में कहा, “यह अभी तक स्पष्ट नहीं है कि हेपेटाइटिस के मामलों में बढ़ोतरी हुई है। बता दें कि पूरी दुनिया में बच्चों में हेपेटाइटिस के मामलों को लेकर जागरूकता तो बढ़ी है, लेकिन विकासशील देशों में आंकड़े अभी भी बेहद निराश करने वाले हैं।

हेपेटाइटिस के मामलों में तेजी से इजाफा होने के बावजूद इससे होने वाले वास्तविक नुकसान के बारे में सही आंकलन नहीं हो पाता है। दरअसल भारत जैसे देशों में ग्रामीण इलाकों में बच्चों की मौत का सही कारण ही नहीं पता चल पाता है। ज्यादातर मामलों में तो ग्रामीण बच्चों को इलाज के लिए अस्पताल तक नहीं ले जा पाते हैं। WHO ने इसको लेकर ही चिंता जताई है।
74 मामलों में अज्ञात वायरस का पता चला
अज्ञात हेपेटाइटस से बीमार हुए बच्चों को लेकर एक्सपर्ट का कहना है कि ज्यादतर मामले आमतौर पर सर्दी से जुड़े वायरस से जुड़े हो सकते हैं, लेकिन इस बारे में रिसर्च जारी है। एडेनोवायरस ( adenovirus) एक संभावित वायरस हो सकता है।

एडिनोवायरस की वजह से सर्दी-जुकाम जैसे लक्षण दिखाई देते है। बुखार और गले में खराश की भी समस्या देखी गई है। इसके कुछ केसों में स्टमक और आंतों में सूजन भी देखी गई है।

प्रभावित देशों में बढ़ाई गई निगरानी
डॉक्टरों का कहना है कि ये रहस्यमय बीमारी की वजह एडिनोवायरस 41 और हेपेटाइटिस हो सकती है। हालांकि अभी जांच चल रही है। डब्ल्यूएचओ ने कहा, कम से कम 74 मामलों में इस संभावित वायरस का पता चला है।

कम से कम 20 बच्चे कोरोनावायरस पॉजिटिव ( positive for the coronavirus) पाए गए हैं। डब्ल्यूएचओ ने कहा कि प्रभावित देश बच्चों में हेपेटाइटिस के मामलों की निगरानी बढ़ा रहे हैं।

Previous articleIPL2022: आईपीएल 2022 (IPL2022) में मुश्किल दौर में रोहित शर्मा को मजबूत करेगा। डब्ल्यूवी रमन
Next articleइमैनुएल मैक्रों फिर बने फ्रांस के राष्ट्रपति, मरीन ली पेन को कड़ी टक्कर में हराया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here