छपरा,22 जुलाई : जिले में हेल्थ एंड वेलनेस सेंटरों पर आमजनों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा मुहैया कराने के लिए स्वास्थ्य विभाग प्रतिबद्ध है। स्वास्थ्य विभाग ने गुणवत्तापूर्ण सेवा मुहैया कराने के लिए एक नयी पहल की शुरुआत की है। अब हेल्थ एंड वेलनेस सेंटरों पर आयुष्मान भारत- जन आरोग्य समिति का गठन किया जायेगा। इसको लेकर राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक संजय कुमार सिंह ने पत्र जारी कर आवश्यक दिशा-निर्देश दिया है। जारी पत्र में कहा गया है कि हेल्थ एण्ड वेलनेस सेन्टर पर स्वास्थ्य सेवाओं और सुविधाओं के प्रावधान के संबंध में इसके संचालन, प्रबन्धन, उपभोग और जवाबदेही सुनिश्चित करने में जन प्रतिनिधियों की सक्रिय भागेदारी हेतु आयुष्मान भारत-जन आरोग्य समिति के रूप में एक मंच उपलब्ध कराया जा रहा है। यह समिति जिला स्वास्थ्य समिति के घटक के रूप में कार्य करेगी एवं इसके अलग से पंजीकरण की आवश्यकता नहीं होगी।

क्या है समिति का उद्देश्य:
राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के अन्तर्गत बिहार प्रदेश के सभी आयुष्मान भारत हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर्स कार्यक्रम अन्तर्गत स्वास्थ्य उप केंद्रों और अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर विस्तारित प्राथमिक स्वास्थ्य सेवायें प्रदान करने के लिए हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर्स में रूपांतरित किया गया है। इसके अन्तर्गत सभी प्रकार की विस्तारित प्राथमिक स्वास्थ्य सेवाओं के लिए स्वास्थ्य एवं इसके सामाजिक निर्धारकों से सम्बन्धित समस्याओं पर सामूहिक सामुदायिक कार्यवाई एवं समुदाय द्वारा सेवाओं का समुचित उपभोग किये जाने हेतु जन आरोग्य समिति का गठन किया जा रहा है। आयुष्मान भारत हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर्स की शुरुआत के साथ बिहार राज्य अन्तर्गत हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर में रूपातरित सभी अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों के रोगी कल्याण समिति को परिवर्तित कर जन आरोग्य समिति के रूप में गठित किया जाना है। समिति का नाम परिवर्तन से संबंधित अधिसूचना रोगी कल्याण समिति के अंतिम बैठक में प्रस्ताव पास कर किया जाएगा। इसके साथ ही हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर में रूपातरित सभी स्वास्थ्य उप केंद्रो में भी उपरोक्त उद्देश्य के लिए जन आरोग्य समिति का गठन किया जाना है। उपरोक्त दोनों प्रकार के सभी स्वास्थ्य संस्थानों पर जन आरोग्य समिति के लिए मूल सिद्धांत समान हैं।

पंचायत के मुखिया होंगे समिति अध्यक्ष:
आयुष्मान भारत जन आरोग्य समिति में पंचायत के मुखिया अध्यक्ष होंगे। वहीं हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर के सीएचओ को सचिव की जिम्मेदारी होगी। वरिष्ठ एएनएम और सीएचओ को उप सचिव बनाया जायेगा। सदस्य के रूप में संबंधित स्वास्थ्य उपकेन्द्र के पोषक क्षेत्र अन्तर्गत आने वाले सभी वीएचएसएनसी के सचिव संबंधित स्वास्थ्य उपकेन्द्र के कार्यक्षेत्र की एक आशा फैसिलिटेटर (जहाँ हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर अवस्थित है) अधिकतम चार सदस्य हो सकती हैं I । संबंधित स्वास्थ्य उपकेन्द्र के कार्यक्षेत्र की एक लेडी सुपरवाइजर समेकित बाल सेवाएँ विकास संबंधित स्वास्थ्य उपकेन्द्र के कार्यक्षेत्र अन्तर्गत प्रत्येक पंचायत से एक जीविका स्वयं सहायता समूह की अध्यक्षा / प्रतिनिधि / ग्राम संगठन) संबंधित स्वास्थ्य उपकेन्द्र के कार्यक्षेत्र अन्तर्गत एक सरकारी स्कूल का आयुष्मान भारत स्कूल

हेल्थ एण्ड वेलनेस एम्बेसडर एक गैर सरकारी संगठन का एक प्रतिनिधि जो क्षेत्र अन्तर्गत स्वास्थ्य एवं पोषण विषयों पर कार्य कर रहे हो, को सदस्य के रूप में शामिल किया जायेगा।

समिति की ये होगी जिम्मेदारी:

• हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर के भवन, उपकरणों के साफ-सफाई रख-रखाव एवं सुरक्षा सुनिश्चित कराना
• समुदाय स्तर की गतिविधियों व क्रिया-कलापों में, विशेषकर स्वास्थ्य सेवाओं का सर्वेक्षण, विभिन्न आयु वर्ग के लिए स्क्रीनिंग परामर्श, उपचार तथा फॉलो-अप को सुगम बनाने के लिए संगठित स्वयंसेवकों समूहों से सहयोग लेना
• ग्रामीण और शहरी स्थानीय निकायों अन्य सरकारी योजनाओं और कार्यक्रमो सामाजिक उत्तरदायित्व निधियों, और गैर सरकारी संगठनों से संसाधनों (नकदी और वस्तु के प्रकार में) को जुटाना
• हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर पर सेवाओं की गुणवत्ता में सुधार लाने, स्वास्थ्य कार्यक्रमो / सेवाओं के प्रचार-प्रसार तथा स्वास्थ्य गतिविधियों के संचालन हेतु उक्त संसाधनों का उपयोग सुनिश्चित करना
• हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर टीम को गुणवत्तापूर्ण विस्तारित प्राथमिक स्वास्थ्य सेवाओं को सुनिश्चित करने संस्थान परिसर का अतिक्रमण एवं दुरूपयोग रोकना। 3. हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर के अनटाईड फंड के प्रबंधन एवं उसका बेहतर उपयोग करना । 4. समुदाय स्तर पर स्वास्थ्य एवं राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के कार्यक्रमों, गतिविधियों एवं आउटरिच (आरोग्य दिवस) पर उपलब्ध सेवाओं में सुधार के लिए ग्राम स्वास्थ्य स्वच्छता एवं पोषण समिति के माध्यम से सामूहिक सामुदायिक कार्रवाई को नेतृत्व प्रदान करना ।
• हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर में सुरक्षित पेयजल, गुणवत्ता वाले आहार, कूड़े मुक्त परिसर स्वच्छ शौचालय, साफ चादर, सुव्यवस्थित प्रतीक्षा क्षेत्र, अच्छी सुरक्षा, बायोमेडिकल अपशिष्ट / नियमित अपशिष्ट निपटान और परिसर का स्वच्छ रखरखाव सुनिश्चित करना एवं इसके बारे में जन समुदाय में जागरूकता फीस या शुल्क नहीं लेंगे।
• स्वास्थ्य योजना बनाने में क्षेत्र की ग्राम पंचायतों को सुविधा और सहायता प्रदान करना
• हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर पर उपलब्ध सेवाओं की सूची सिटीजन चार्टर के रूप में प्रदर्शित करवाना जो केन्द्र में प्रदान की जाती हैं तथा सभी कक्ष के बाहर साइनेज सिस्टम सुनिश्चित करना ।

Previous article“जनता का दरबार’’ कार्यक्रम में जिलाधिकारी के द्वारा किया गया 105 मामलों का निष्पादन
Next articleअशोक कुमार ने रेत पर बनाई राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू की तस्वीर,दी बधाई

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here