छपरा: शुक्रवार को एआईएसएफ जिला सचिव अमित नयन ने प्रेस विज्ञप्ति जारी करते हुए देश की वर्तमान स्थिति को लेकर गंभीर चिंता जताई। जिला सचिव अमित नयन ने कहा कि जब से केंद्र में नरेंद्र मोदी की सरकार आई है तब से लेकर महंगाई, बेरोजगारी, हर रोज नए-नए कीर्तिमान स्थापित कर रही है। अभी हाल ही के दिनों में ऑन ब्रांडेड खाद्य सामग्रियों पर भी सरकार द्वारा जीएसटी को जबरन थोपा जाना इसका ताजा उदाहरण है। उन्होंने कहा कि कब तक केंद्र सरकार वैश्विक परिस्थिति और कोविड का बहाना बनाएगी। देश में आज हर शख्स महंगाई, बेरोजगारी, भुखमरी से हताहत है। सरकार इसे नियंत्रित करने के मूड में जरा भी दिखाई नहीं देती। आखिर क्यों जब चुनाव होता है, तो डीजल, पेट्रोल के दाम अपने आप कम हो जाता है। वहां पर अंतरराष्ट्रीय परिप्रेक्ष्य का हवाला गौण क्यों हो जाता है? शिक्षा से संबंधित कापियों, किताबों, कलमों के ऊपर भी महंगाई का ग्रहण लगाया जा रहा है। मोदी जी अगर खुद अपने पुराने भाषण को जरा एक बार सुन लेते तो, नींद से जाग जाते। अमित नयन ने राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर के एक कथन “सिहासन खाली करो जनता आ रही है”
को याद दिलाते हुए कि कहा कि केंद्र सरकार अपनी जिम्मेदारी को अमल में लाते हुए कुंभकरण की नींद से जागते हुए जल्द से जल्द महंगाई, बेरोजगारी, भुखमरी की समस्या का निदान करे। नहीं तो आम जनता उन्हें सत्ता से उतारने में जरा भी गुरेज नहीं करेगी। उन्होंने देश के आम नागरिकों से अपील की है, कि वह बढ़ती महंगाई और बेरोजगारी के खिलाफ सड़कों पर जन आंदोलन करें, ताकि केंद्र सरकार कुंभकरण की नींद से जागे।नयन ने कहा कि लोकतांत्रिक ताकत के माध्यम से हम सभी एकजुट होकर तानाशाही प्रवृत्ति वाली केंद्र सरकार के दमनकारी नीति का समन करें। ताकि,महंगाई,बेरोजगारी, भुखमरी से आम जनों को निजात मिल सके।

Previous articleसड़क हादसा: अनियंत्रित ट्रक ने साइकिल सवार 2 किशोरों को रौंदा, एक की मौत
Next article2023 तक कालाजार उन्मूलन का लक्ष्य निर्धारित, आरके-39 किट के माध्यम से होगी कालाजार की जांच

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here