• प्रथम पुण्यतिथि पर याद किये गये सारण वरिष्ठ पत्रकार दिवंगत गुड्डू राय

• विधायक जितेंद्र राय ने किया प्रतिमा का अनावरण

• जिले बुद्धिजीवियों और तमाम पत्रकार साथियों ने दी श्रद्धांजलि

छपरा: सारण जिले के रिविलगंज निवासी दिवंगत पत्रकार गुड्डू राय के प्रथम पुण्यतिथि सादगी के साथ उनके पैतृक आवास समसुदीनपुर गांव में मनायी गयी। प्रथम पुण्यतिथि के अवसर उनके प्रतिमा का अनावरण मुख्य अतिथि मढौरा के राजद विधायक जीतेंद्र राय के द्वारा किया गया। इस मौके पर तमाम अतिथियों और पत्रकार साथियों उनकी प्रतिमा पर माल्यार्पण कर श्रंद्धांजलि अर्पित की। इस मौके पर विधायक जितेंद्र राय ने कहा कि दिवंगत पत्रकार गुड्डू राय संघर्षो से कभी हार नहीं मानने वाले इंसान थे। उनका जीवन काफी संघर्षों से भरा रहा। पत्रकारिता के क्षेत्र उनकी अलग पहचान थी। कभी अपने विचारों से समझौता नहीं करते थे। उनकी विचारधारा समाज के लिए प्रेरणादायक थी। विधायक ने कहा कि गुड्डू राय अपनी बेहतर पत्रकारिता और समाज के लिए किया गया उनके योगदान के लिए सदा याद किये जायेंगे। छात्र जीवन से हम लोग हमेशा करीब रहे। हमेशा सामाजिक मुद्दों पर उनके साथ चर्चा होती थी। उन्होने स्ट्रीम मीडिया से हटकर खुद की डिजिटल मीडिया स्थापित की। संजीवनी समाचार की जिले में अलग पहचान है। उन्होने अपने परिवार के एक बंध में लेकर चलने का काम किया। जिस बंधन में अपने परिवार के सदस्यों और अनुज को बांधकर गये है वो आज भी कायम है। यही उनके लिए सच्ची श्रद्धांजलित है। पिछले साल आज हीं के दिन हम सभी के लिए यह काला दिन था, जिस दिन हमारे साथी हम सभी को छोड़कर चले गये। पत्रकारिता के माध्यम से सामाज के लिए किये गये उनके योगदान आजीवन याद रहेंगे। उन्होने कहा कि बिहार में भी पत्रकार सुरक्षा कानून की मांग की जायेगी। इसके लिए सदन में आवाज उठायेंगे।


गुड्डू राय शख्सियत नहीं थे, वो शख्सियत बनाने वाले थे:
इस मौके पर शहर के प्रसिद्ध चिकित्सक और विशिष्ट अतिथि डॉ. अनिल कुमार ने दिवंगत पत्रकार गुड्डू राय के स्णसमरण को याद करते हुए कहा कि वे सिर्फ एक शख्सियत नहीं थे, बल्कि शख्सियत बनाने वाले लोग है। उन्होने हीं मुझे सिखाया की सिर्फ चेंबर में बैठकर हीं डॉक्टरी नहीं की जा सकती है। बल्कि चेंबर के बाहर की दुनिया को भी जानने की आवश्यकता है। गुड्डू राय हमेशा समाज के वंचित लोगों और गरीबों-असहायों के सेवा के लिए तत्पर रहते थे। इस मौके पर विक्की आनंद ने कहा कि उनके मुस्कराते हुए चेहरों को कभी भुलाया नहीं जा सकता है। वे परिवार के साथ-साथ समाज के सभी लोगों को एक साथ लेकर चलने का काम करते थे। आज उनके अधूरे सपनों को उनके सभी अनुज मिलकर पूरा कर रहें है। इस मौके पर शहर प्रसिद्ध गणितज्ञ मनोज वर्मा संकल्प ने कहा कि गुड्डू जी के द्वारा पत्रकारिता के माध्यम से किया गया योगदान आजीवन याद रहेगा। वे हमेशा से सामाज के लिए कुछ बेहतर करने की सोच रखते थे। अपनी पत्रकार के माध्यम से कई लोगों को उन्होने न्याय दिलाने का काम किया। जिले में उनकी एक अलग पहचान थी। रिविलगंज नगर पंचायत के मुख्य पार्षद प्रतिनिधि मुकेश कुमार यादव उर्फ सोनू ने कहा कि गुड्डू और हम एक साथ बड़े हुए। हमारा बच्चपन एक साथ बीता है। आज का दिन हम सभी के लिए काला दिन है। पत्रकारिता में संघर्ष के प्रतीक थे। सीमित संसाधनों में और गरीबी में गुजारा कर उन्होने पत्रकारिता अपनी एक अलग पहचान स्थापित की थी। मांझी के पत्रकार मनोज कुमार सिंह ने गुड्डू राय के साथ बिताये हुए बातों की चर्चा करते हुए कहा कि उस दौर में वे पत्रकारिता करना शुरू कर चुके थे। जब वे नौवा कक्षा के छात्र थे। इसके साथ-साथ साइकिल चलाकर छपरा अखबार लाकर गांव-गांव में जाकर बाटने का काम करते थे। इसके साथ हीं अपने पिता के साथ चाय दुकान पर भी मदद करते थे। इस मौके पर जिले के तमाम पत्रकार साथियों ने अपने-अपने विचार को साझा किया। पत्रकार मनोज कुमार सिंह, बसंत कुमार सिंह, सुहैल अहमद, उदय नारायण सिंह, पंकज श्रीवास्तव, राजन सिंह समेत अन्य पत्रकारों ने संस्मरण को याद किया। इस मौके पर शहर के प्रसिद्ध चिकित्सक डॉ. अनिल कुमार, रिबेल के निदेशक विक्की आनंद, श्वेतांक राय पप्पू, मनोज वर्मा संकल्प, पत्रकार वीरेंद्र यादव, डॉ. केडी यादव, डॉ. सत्यदेव यादव, राजद नेता अनिल राय, कामरेड अरूण कुमार सिंह, मुखिया संष के प्रदेश अध्यक्ष मिथलेश कुमार राय, संतोष गुप्ता पत्रकार मंजीत नारायण सिंह, हेमंत कुमार शर्मा, उमेश सिंह, अमित कुमार, धर्मेंद्र रास्तोगी, रंजीत कुमार सिंह, रंजीत भोजपुरिया, हिमालय राज, विशाल कुमार, जितेश सिंह, सतीश कुमार सिंह, पत्रकार गनपत आर्यन, सुनिल राय, पिंटू राय, विनय कुमार, धनपत कुमार समेत अन्य मौजूद थे।

Previous articleकोविड संक्रमण नहीं बढ़े इसलिए रहें सतर्क, मास्क का इस्तेमाल अवश्य करें
Next articleइस्लामाबाद हाईकोर्ट का आदेश : इमरान को दिए गए उपहारों का ब्योरा सार्वजनिक करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here