छपरा: बिहार के सारण जिले में शराब पीकर मरने वालों की संख्या 13 हो गई है। शुक्रवार को 6 और लोगों की मौत हो गई। सभी अस्पताल में भर्ती थे। इलाज के दौरान सभी की मौत हो गई। मृतकों में 11 मकेर और भेल्दी के रहने वाले हैं। वहीं दो अन्य मृतक सारण जिले के ही दूसरे इलाके के रहने वाले हैं। इस घटना में लगभग दो दर्जन लोग बीमार हैं और 15 लोगों के आंख खराब हो गई है। उनकी रौशनी धुंधली हो गयी है। ग्रामिणों ने दावा किया है कि सबकी मौत जहरीली शराब पीने से हुई है। इस मामले में गुरुवार को सात लोगों की जान चली गयी। मरने वालों में भेल्दी थाने के सोनहो भाथा गांव के पारस महतो का पुत्र चंदन महतो, मकेर थाने के फुलवरिया भाथा नोनिया टोली गांव के काशी महतो का पुत्र कमल महतो, भरोसा महतो का पुत्र ओमनाथ महतो और विलास महतो का पुत्र चंदेश्वर महतो, सकलदीप महतो, धनी लाल महतो व राजनाथ महतो शामिल हैं। कई बीमार अभी भी पीएमसीएच में भर्ती हैं जिनकी हालत खराब है। इससे पहले ओमनाथ, चंदेश्वर, धनी और सकलदीप महतो की मौत पीएमसीएच में इलाज के दौरान हुई,जबकि कमल महतो ने रास्ते में ही दम तोड़ दिया। चंदन महतो की घर पर ही जान चली गयी। जिसका परिजनों ने बिना पोस्टमार्टम कराये ही दाह संस्कार कर दिया। डीएम और एसपी मामले की जांच के लिए घटनास्थल पर कैंप कर रहे हैं।

इधर जिले के डीएम राजेश मीणा ने कहा है कि प्रथम दृष्टया शराब पीने से मौत होना प्रतीत हो रहा है। घटनास्थल पर मेडिकल टीम भी पहुंची हुई है। पुलिस छानबीन कर रही है। डीएम ने आश्वासन दिया है कि किसी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद मामले का खुलासा हो जाएगा। लोगों का कहना है कि एक शादी समारोह शराब पीने की बात सामने आई है। मकेर थाने के फुलवरिया नोनिया टोली और सोनहो भाथा के लगभग पच्चीस से अधिक लोगों ने शराब का सेवन किया था। जिन लोगों के घर में शादी थी उन लोगों ने अपने सगे-सम्बन्धी को भोज दिया था जिसके दौरान शराब पिलाई गई थी। पहले दिन भेल्दी थाने के सोनहो भाथा के चंदन कुमार और फुलवरिया नोनिया टोली के कमल महतो की मौत हो गई। वही अब इस मामले में पुलिस ने एक व्यक्ति को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है। मामले की गंभीरता को देखते हुए कई थानों की पुलिस को घटनास्थल पर भेजा गया। भेल्दी थानाध्यक्ष संतोष कुमार,मकेर थानाध्यक्ष नीरज कुमार मिश्रा,परसा थानाध्यक्ष कमलेश कुमार,अमनौर थानाध्यक्ष सुजीत कुमार समेत कई आलाधिकारी भी मामले की छानबीन में जुट गये। मृतकों के परिजनों का भी रो-रो कर बुरा हाल है। वही पुलिस, प्रशासन और उत्पाद विभाग की टीम अभी भी गांव में मौजूद है। आज भी मामले में छानबीन की जा रही है।

Previous articleमां का दूध शिशु के लिए सर्वोत्तम आहार, प्रसव के बाद स्तनपान के महत्व को बता रही हैं एएनएम दीदी
Next articleछपरा शराब कांड को लेकर सारण जिलाधिकारी व आरक्षी अधीक्षक की संयुक्त संवाददाता सम्मेलन, दी गई विस्तृत जानकारी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here