निजी और सरकारी विद्यालयों के सूचनापट पर कोविड टीकाकरण की दैनिक स्थिति करनी होगी प्रदर्शित

छपरा,4 अगस्त: कोविड 19 टीकाकरण महामारी से बचाव का एक सशक्त माध्यम है, जिसके तहत भारत सरकार के निदेशानुसार विभिन्न आयुवर्ग के लाभार्थियों का टीकाकरण संचालित है। इसी क्रम में 3 जनवरी 2022 से 15 से 17 वर्ष आयुवर्ग तथा 16 मार्च 2022 से राज्य के 12 वर्ष से 14 वर्ष आयुवर्ग के सभी किशोर एवं किशोरियों को कोविड 19 के टीका से आच्छादित किया जाना है।इसको लेकर स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव प्रत्यय अमृत व शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव दीपक कुमार सिंह ने संयुक्त रूप से पत्र जारी कर आवश्यक दिशा-निर्देश दिया है। जारी पत्र में कहा गया है कि उक्त आयुवर्ग के अधिकांश लाभार्थी विद्यालयों में अध्ययनरत होते हैं। ऐसे में सभी सरकारी व निजी विद्यालयों में विद्यालय के प्रधानाध्यापक से समन्वय स्थापित कर विद्यालय में अध्ययनरत लक्षित लाभार्थियों के कोविड 19 टीकाकरण की दैनिक स्थिति का प्रदर्शन विद्यालय के सूचनापट पर प्रदर्शित की जाय तथा कोविड 19 टीकाकरण के प्रथम एवं द्वितीय खुराक से वंचित लाभार्थियों की सूची तैयार कर संबंधित क्षेत्र के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी से समन्वय स्थापित कर सत्र आयोजित कराकर छूटे हुये लाभार्थियों का टीकाकरण सुनिश्चित किया जाय ।

आपसी समन्वय स्थापित कर होगा टीकाकरण:

इस कार्य के लिए प्रखंड एवं जिला स्तर पर शिक्षा विभाग के पदाधिकारी से समन्वय स्थापित कर कोविड 19 टीकाकरण का कार्य सम्पन्न कराया जाय। इसकी पूर्ण जवाबदेही जिला शिक्षा पदाधिकारी सहित सिविल सर्जन, जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी, जिला कार्यक्रम प्रबंधक की होगी। वर्तमान में 15 से 17 वर्ष आयुवर्ग के किशोर एवं किशोरियों को कोविन पोर्टल से प्राप्त प्रतिवेदन के अनुसार प्रथम खुराक का आच्छादन 70.3 प्रतिशत द्वितीय खुराक से 74.8 प्रतिशत योग्य लाभार्थियों को आच्छादित किया जा चुका है तथा 12 से 14 वर्ष आयुवर्ग में 62.4 प्रतिशत लक्षित लाभार्थियों को प्रथम खुराक से एवं द्वितीय खुराक से 67.4 प्रतिशत योग्य लाभार्थियों को आच्छादित किया गया है, जिसे सुदृढ़ किये जाने की आवश्यकता है।

कोरोना का टीका लेना सामाजिक जिम्मेदारी भीः

सिविल सर्जन डॉ. सागर दुलाल सिन्हा ने बताया कि तमाम जागरूकता अभियान चलाने के बावजूद अभी भी कुछ लोगों ने कोरोना टीका की पहली और दूसरी डोज भी नहीं ली है। ऐसे लोगों से मेरी अपील है कि वो देरी बिल्कुल भी नहीं करें और जल्द से जल्द कोरोना टीकाकरण की प्रक्रिया में शामिल हों और अपने आप को कोरोना से सुरक्षित करें। कोरोना का टीका लेना न सिर्फ खुद का इस बीमारी से बचाव करना है, बल्कि यह एक सामाजिक जिम्मेदारी भी है। चूंकि कोरोना एक संक्रामक बीमारी है, इसलिए यह एक से दूसरे में भी फैल सकती है। लेकिन जब आप कोरोना का टीका ले लेते हैं तो आप तो इससे सुरक्षित हो ही जाते हैं । साथ ही साथ में आपसे भी दूसरे लोगों में कोरोना होने का खतरा नहीं रहता है।

Previous articleमुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की दो दिवसीय वाराणसी दौरा: फुलवरिया फोरलेन के निर्माण कार्य के प्रगति की स्थलीय का किया निरीक्षण
Next articleमां का दूध शिशु के लिए सर्वोत्तम आहार, प्रसव के बाद स्तनपान के महत्व को बता रही हैं एएनएम दीदी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here