छपरा,3अगस्त : कोविड-19 वैश्विक महामारी से लोगों के जीवन की रक्षा के लिए टीकाकरण की भूमिका बहुत ही महत्वपूर्ण है। इसके लिए गत वर्षों में जीविका द्वारा कोविड टीकाकरण के प्रति समुदाय के लोगों को जागरूक करने के लिए सघन प्रयास किया गया है। “आजादी का अमृत महोत्सव” के दौरान कोविड-19 टीकाकरण से छूटे पात्र सदस्यों को कोविड टीकाकरण की (पहला, दूसरा और बूस्टर) खुराक लेने हेतु जागरूक करने की आवश्यकता है, जिसमे जीविका की भूमिका बहुत ही महत्वपूर्ण है। जीविका द्वारा आजादी का अमृत महोत्सव के दौरान विभिन्न गतिविधियों का आयोजन किया जायेगा। इसको लेकर जीविका के मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी राहुल कुमार ने पत्र जारी कर सभी जिला परियोजना प्रबंधक को आवश्यक दिशा-निर्देश दिया है। जारी पत्र में कहा गया है कि समूह की साप्ताहिक बैठक में कोविड-19 टीकाकरण के लाभों पर चर्चा की जायेगी। साथ ही ग्राम संगठन और संकुल संघ की विशेष बैठक आयोजित करके समूह के सदस्यों को कोविड-19 की खुराक लेने हेतु प्रेरित किया जायेग विभिन्न संचार सामग्रियों जैसे लीफलेट, ऑडियो और विडियो संदेशों के माध्यम से समूह – के पात्र सदस्यों और उनके परिवार के पात्र सदस्यों को विशेषकर बूस्टर खुराक लेने के लिए प्रेरित किया जायेगा।

टीकाकरण के पात्र लाभार्थियों की बनायी जायेगी सूची:

पत्र के माध्यम से निर्देश दिया गया है कि पात्र सदस्यों की सूची निर्माण स्वयं सहायता समूह की बैठक में सामुदायिक उत्प्रेरक द्वारा समूह के पात्र सदस्यों और उनके परिवार पात्र सदस्यों की सूची बनाई जायेगी। चूंकि गत वर्षों में टीकाकरण अभियान के दौरान समूह की सदस्य और सामुदायिक उत्प्रेरक सक्रिय रूप से भाग लेकर समूह सदस्यों एवं उनके परिवार के अन्य सदस्यों का टीकाकरण करवाने में सहयोग प्रदान की थी। इसलिए उनके पास टीकाकरण से सम्बंधित आंकडें जैसे पहली खुराक, दूसरी खुराक, कोविशील्ड और कोवैक्सीन इत्यादि है, जिसके सहयोग से सामुदायिक उत्प्रेरक आसानी से समूह के पात्र सदस्यों तथा उनके परिवार के पात्र सदस्यों की सूची बनायेंगी।

घरों की मार्किंग करेंगी जीविका दीदी:

टीकाकरण करा चुके लाभार्थियों के घरों की मार्किंग घरों के पहचान हेतु अलग-अलग कलर कोड का इस्तेमाल किया जायेगा।

• यदि 18 वर्ष से अधिक आयु के सभी पात्र सदस्यों को बूस्टर खुराक मिल गई है तो घर के दरवाजे पर हरी बिंदी लगा दी जायेगी।
• यदि सभी पात्र सदस्यों को दूसरी खुराक मिल गई है तो घर के दरवाजे पर नीली बिंदी लगा दी जायेगी।
• यदि सभी पात्र सदस्यों को पहली खुराक मिल गई है तो घर के दरवाजे पर पीली बिंदी लगा दी जायेगी
• यदि सभी पात्र सदस्यों ने अभी तक कोई खुराक नहीं ली है तो घर के दरवाजे पर बड़ी लाल बिंदी लगा दी जायेगी
• यदि किसी घर में सदस्यों के टीकाकरण की स्थिति एक-दूसरे से भिन्न है तो इस स्थिति में मिश्रित रंग की बिंदी लगाई जायेगी जैसे घर में दो सदस्यों को बूस्टर खुराक मिली है तो दो हरे रंग की बिंदी, एक सदस्य ने दूसरी खुराक ली है तो – एक नीली रंग की बिंदी, एक सदस्य ने एक खुराक ली है तो एक पीली रंग की बिंदी और एक सदस्य ने एक भी खुराक नहीं ली है तो एक लाल रंग की बिंदी घर के दरवाजे पर लगाई जायेगी।

दरवाजे पर टीकाकरण का प्रावधान घर में कुछ बुजुर्ग, दिव्यांग, बीमार व्यक्ति टीकाकरण हेतु पात्र हो सकते हैं , वे ऐसी स्थिति में टीकाकरण स्थल पर खुराक लेने हेतु नहीं जा सकते। जीविका कर्मी और कैडर इन व्यक्तियों की सूची स्वास्थ्य विभाग के साथ साझा कर घर पर ही टीकाकरण की व्यवस्था करवाने का प्रयास करेंगे। मोबाइल टीकाकरण वैन का प्रावधान यदि टीकाकरण स्थल किसी विशेष बस्ती से दूर है और लोग उस स्थल पर जाने के लिए तैयार नहीं है तो जीविका कर्मी और कैडर स्वास्थ्य विभाग के सहयोग से मोबाइल टीकाकरण वैन के माध्यम से टीकाकरण करवाने का प्रयास करेंगे।

Previous articleअल्प वर्षापात से उत्पन्न स्थिति से निपटने हेतु सरकार कृत संकल्पित – अपर मुख्य सविच-सह प्रभारी सचिव सारण
Next articleगड़खा: 200 बालिकाओं का सीएचसी 6 सदस्यीय डॉक्टर के टीम द्वारा गहन स्वास्थ्य परीक्षण

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here