Mumkin hai India

  • Gallery

    पुर्णिया: शुक्रवार से पंचायतीराज संस्थानों के जनप्रतिनिधियों को लगाया जाएगा कोविड-19 का टीका

    2021-03-11

    - जनप्रतिनिधियों द्वारा प्रेरित कर लाए गए योग्य लाभुकों को भी लगेगा टीका - पर्याप्त संख्या में होगा टीकाकरण दल का गठन - 60 से अधिक या 45 से 59 उम्र के रोग ग्रसित जनप्रतिनिधि को लगेगा टीका - कार्यपालक निदेशक ने पत्र के माध्यम से सभी सिविल सर्जन को दिया निर्देश पूर्णिया, 11 मार्च कोविड-19 वैश्विक महामारी से बचाव के लिए 01 मार्च से टीकाकरण के तीसरे चरण की शुरुआत की गई है। तीसरे चरण में जिले के वैसे सभी नागरिक जिसकी उम्र 60 वर्ष या उससे अधिक है तथा जो 45 से 59 वर्ष के हैं व अत्यंत गंभीर रोग से ग्रसित हैं उन्हें कोविड-19 का टीका लगाया जा रहा है। इसी क्रम में 12 मार्च (शुक्रवार) से पंचायतीराज संस्थानों के जनप्रतिनिधि तथा उसके द्वारा प्रेरित व स्वास्थ्य संस्थानों में लाए गए योग्य लाभुकों जिसकी उम्र 01 जनवरी 2022 को 60 वर्ष पूर्ण हो रही है या उससे अधिक है तथा 45 से 59 आयुवर्ग के वैसे जनप्रतिनिधि जो गंभीर रोग से ग्रसित हैं उनका टीकाकरण कराए जाने पर विशेष ध्यान दिया जाएगा। इस सम्बंध में राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक मनोज कुमार ने पत्र जारी करते हुए जिला के सिविल सर्जन को निर्देश दिया है। बैठक आयोजित कर कार्ययोजना की होगी तैयारी : जारी पत्र द्वारा कार्यपालक निदेशक ने सिविल सर्जन को निर्देशित किया है कि सभी प्रखंडों में प्रखंड विकास पदाधिकारी की अध्यक्षता में सभी पंचायतीराज जनप्रतिनिधियों की बैठक आयोजित की जाए जिसमें प्रखंड के प्रत्येक जनप्रतिनिधि द्वारा अपने सम्बंधित पात्र लाभार्थियों को कोविड-19 टीकाकरण के लिए प्रोत्साहित कर उनका टीकाकरण कराया जाए। पर्याप्त संख्या में होगा टीकाकरण दल का गठन : पंचायतीराज जनप्रतिनिधियों के टीकाकरण के लिए सभी टीकाकरण स्थल के लिए पर्याप्त संख्या में टीकाकरण दल का गठन किया जाएगा। टीकाकरण दल में प्रशिक्षित कर्मियों की नियुक्ति की जाएगी, जो कोविन 2.0 पोर्टल के संचालन में पूरी तरह दक्ष हो। सभी टीकाकरण स्थल पर अनुमानित लाभार्थियों की संख्या के आधार पर वैक्सीन, सिरिंज एवं अन्य जरूरी चीजों की भी व्यवस्था पूर्व से ही सुनिश्चित किए जाने का निर्देश दिया गया है। उक्त अवसर पर जनप्रतिनिधियों द्वारा लाभुकों को प्रोत्साहित किये जाने के कारण भीड़ एकत्रित होने की संभावना है। अतः इससे निपटने के लिए सभी जरूरी व्यवस्था जैसे पेय जल, बैठने के लिए कुर्सी आदि पूर्व से ही उपलब्ध कराये जाने हैं। इसके साथ ही बैठक में विधि व्यवस्था के संचारण का भी ध्यान रखने का निर्देश जारी किया गया है। गंभीर रोग ग्रसित लाभार्थियों के प्रमाणीकरण को चिकित्सकों की होगी नियुक्ति : टीकाकरण स्थल पर 45 से 59 वर्ष के वैसे लाभार्थियों जो अत्यंत गंभीर रोग से ग्रसित हैं उन्हें सम्बंधित रोग के प्रमाण पत्र की जांच कराना आवश्यक है। सभी प्रखंडों में गंभीर रोग सम्बंधित प्रमाणीकरण जारी करने के लिए चिकित्सकों की नियुक्ति की जाएगी। चिकित्सकों द्वारा योग्य लाभार्थियों के ससमय पर्याप्त संख्या में प्रमाणपत्र उपलब्ध कराया जाना सुनिश्चित किया जाना है। टीकाकरण स्थल का प्रचार-प्रसार जरूरी : कोविड-19 टीकाकरण स्थल पर प्रचार प्रसार के लिए पोस्टर, बैनर व फ्लैक्स का उपयोग किया जाना जरूरी है। 12 मार्च से पात्र लाभुकों के कोविड-19 टीकाकरण की रिपोर्टिंग गूगल शीट के माध्यम से होगी | जिला अनुश्रवण एवं मूल्यांकन पदाधिकारी एवं प्रखंड स्तर पर प्रखंड स्वास्थ्य प्रबंधक व प्रखंड स्तरीय अनुश्रवण एवं मूल्यांकन पदाधिकारी को इसकी जवाबदेही दी गई है। इसके साथ ही टीकाकरण में उत्कृष्ट कार्य करने वाले जनप्रतिनिधियों को पुरस्कृत भी किए जाने का निर्देश जारी किया गया है।