Mumkin hai India

  • ताजा खबरें

    मेडिफ्री डिजिटल मोबाईल एप हुआ लांच ! जाने क्या है खास

    सारण में बेटा नहीं जनने के कारण गई प्रमिला की जान

    छपरा: पचास हजार का ईनामी अपराधी को सारण पुलिस ने किया गिरफ्तार

    मांझी: चाकू का भय दिखा कर दिनदहाड़े बाइक और मोबाइल की लूट

    मांझी: चाकू मार किया जख्मी 18 हजार लूट फरार हुए अपराधी

    छपरा: सारण जिले में असामाजिक तत्व व अपराधी किस्म के लोगो की खैर नहीं - सारण पुलिस

    Covid-19 गाइडलाइन उल्लंघन मामले में गायिका निशा उपाध्याय पर प्राथमिकी दर्ज मैरिज हॉल हुआ सील

    यूएनएससी की खुली बहस में भारत ने दुनिया का ध्यान साइबर स्पेस के गलत इस्तेमाल की तरफ खींचा

    मुख्यमंत्री केजरीवाल का एलान, पंजाब में 'आप' की सरकार बानी तो 300 यूनिट बिजली होगी फ्री

    बालाजी श्रीवास्तव दिल्ली पुलिस के नए कमिश्नर होंगे। दिल्ली पुलिस कमिश्नर

    लक्ष्य हासिल करने के लिए दृढ़ संकल्प, लगन के साथ सही दिशा में प्रयास बेहद जरूरी- दीपक आनंद

    ठनका गिरने से युवती की मौत

    कोरोना की लड़ाई में विपक्षी दल बाधक, जनता को कर रही है गुमराह: जेपी नड्डा

    अगले सप्ताह 'अग्नि प्राइम' ​मिसाइल का होगा ​परीक्षण ​​​​, उड़ीसा के तट पर हो रहा है तैयारी

    बंगाल सरकार ने माध्यमिक और उच्च-माध्यमिक की परीक्षाएं की रद्द

    ना तो भाजपा का सक्रिय सदस्य हूं, ना ही किसी संगठन से जुड़ा व्यक्ति हूं: वसीम रिजवी

    लाहौर में आतंकी हाफिस सईद के घर के पास हुए धमाके में तीन लोगों की मौत, 23 घायल

    छपरा: तेज आंधी पानी के दौरान ठनका गिरने से एक युवक की मौत

    छपरा: बाबा रामदेव के द्वारा किए गए आपत्तिजनक टिप्पणी के विरोध में डॉक्टरों का आक्रोश

    SC ने12वीं की परीक्षाएं रद्द नहीं करने वाले राज्यों को भेजा नोटिस

    गृह मंत्रालय ने हटाई मुकुल रॉय की Z सिक्‍योरिटी

    राम मंदिर ट्रस्ट मामला:नोएडा से लेकर प्रयागराज तक कांग्रेस का जोरदार प्रदर्शन, हुई गिरफ्तारियां

    CBSE RESULT: अगले महीने जारी होगा 12वीं बोर्ड का रिजल्ट, इस आधार पर निर्धारित होंगे अंक

    दक्षिण सूडान में 135 भारतीय सैनिक संयुक्त राष्ट्र पदक से सम्मनित

    सुप्रीम कोर्ट ने इटली के दो नौसैनिकों पर भारत में चल रहे मुकदमे को बंद करने का दिया आदेश

    सीआईएसएफ ने संभाली भारत बायोटेक के परिसर की सुरक्षा की जिम्मेदारी

    अब गुजरात मे भी शादी के लिए जबरन धर्म परिवर्तन कराना होगा अपराध, लव जिहाद कानून हुआ लागू

    Gallery

    विश्व पर्यावरण दिवस: पर्यावरण संरक्षण में भारतीय रेल का अप्रतिम योगदान

    2021-06-04

    वाराणसी: इस भागती दौड़ती जिंदगी में व्यस्त लोग अपनी आधुनिक जीवन शैली में मशगूल थे तभी अचानक एक वैश्विक महामारी अपने पाँव पसारते हुए भारत में भी दस्तक दी और सब कुछ थम सा गया। वातानुकूलित कमरों में निश्चित बैठे लोगों के माथे पर पसीने की बुँदे टपकने लगी, एयर कन्डिशनर्स जो आक्सिजन का पर्याय माने जाने लगा था उसे छोड़ लोग शुद्ध हवा की तलाश करने लगे, शायद अब पर्यावरण संरक्षण का महत्व भी समझ आने लगा था। परंतु इससे पूर्व भी जब प्रदूषण का जिक्र होता था हमारे सामने कुछ चित्र उभरने लगते, जैसे की गाड़ियों से निकलता हुआ धुंआ चाहे वो मोटरसाइकिल, कार, दूक से निकलता हुआ थुंआ हो या फिर ट्रेन के डीजल इंजन से निकलता हुआ बेहतर एवं तेज कम्यूनिकेशन/ यातायात व्यवस्था की बिना किसी भी सभ्यता का विकास संभव नहीं है ऐसे में जो यातायात के साधन देश की तरक्की के लिए उपयोग किए जा रहे हैं वो पर्यावरण मित्रवत हो इसका ध्यान भी रखना चाहिए। इस दिशा में एक ऐतिहासिक कदम उठाते हुए रेल मंत्रालय द्वारा भारतीय रेल पर स्थित सभी बड़ी लाइनों को विद्युतीकृत करने का निर्णय लिया गया और अब मिशन मोड में कार्य करते हुए भारतीय रेल दुनिया की सबसे बड़ी हरित रेल बनने की ओर अग्रसर है तथा इसको सन 2030 तक जीरो कार्बन उत्सर्जक बनाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया। भारतीय रेल के इस महत्वाकांक्षी कदम को सफल बनाने के लिए कभी छोटी लाइन के नाम से प्रसिद्द पूर्वोत्तर रेलवे पर वर्ष 2014 -15 के पूर्व मात्र 24 रूट किमी रेल खंड ही विद्युतीकृत हो पाया था वहाँ वर्तमान में 2287 रूट किमी रेल खंड को विदयुतीकृत कर लिया गया है जोकि पूर्वोत्तर रेलवे पर अवस्थित कुल बड़ी लाइन (रूट किमी) का 73 प्रतिशत है। विगत दो वित्त वर्षों 2019-20 एवं 2020-22 में पूर्वोत्तर रेलवे विधयुतिकरण कार्य में सम्पूर्ण भारतीय रेल पर द्वितीय स्थान पर रही है जिसके फलस्वरूप सभी प्रमुख रेल मार्गों पर इलेक्ट्रिक ट्रेनें दौड़ रही है इससे जहां एक और डीजल इंजन हटने से कार्बन उत्सर्जन घटा है तथा पर्यावरण प्रदूषण कम हुआ है वहीं दूसरी और डीजल पर निर्भरता कम होने से रेल राजस्व की बचत हुई है। रेलवे बोर्ड द्वारा भारतीय रेल की सभी बड़ी लाइनों को विद्युतीकृत करने का लक्ष्य दिसम्बर रखा गया है जिसे पूर्वोत्तर रेलवे समय से प्राप्त कर लेगा। इन कार्यों को तेजी से पूर्ण करने के लिए बड़े साइज़ के इंजीनियरिंग प्रोक्योरमेंट एवं कन्स्ट्रक्शन (इपीसी) कान्ट्रेक्ट किए गए, बेहतर मॉनिटिंग की व्यवस्था बनाई गई तथा इस दौरान फंड की उपलब्धता सुनिश्चित की गई ।

    विद्युतीकरण से कई लाभ हुए है जैसे की इंपोर्टेड डीजल पर निर्भरता कम होते. से विदेशी मुद्रा की बचत, कार्बन उत्सर्जन में कमी, ट्रेन परिचालन की लागत में कमी, डीजल ट्रेक्शन से इलेक्ट्रिक ट्रैक्शन में बदलने से होने वाले देरी समाप्त होने से लाइन क्षमता में बढ़ोत्तरी तथा इलेक्ट्रिक इंजन की परिचालनिक एवं अनुरक्षण लागत कम होने से भी रेल राजस्व की बचत हो रही है। पर्यावरण को संरक्षित रखने के लिए हर स्तर पर प्रयास किया जा रहा है जिनमें से एक है 'हेड ऑन जेनरेशन (एच.ओ. जी.) व्यवस्था जिसके अंतर्गत कोचों मे बिजली की सप्लाइ ओवरहेड इक्विप्मन्ट से इलेक्ट्रिक लोकमोटिव के माध्यम से की जा रही है जिसके फलस्वरूप डीजल से चलने वाले पावर कार उपयोगिता समाप्त हो गई है। पूर्वोत्तर रेलवे से कुल 34 ट्रेनों को एच. ओ. जी युक्त कर चलाया जा रहा है जिससे गत वित्त वर्ष 2020-21 मे लगभग रु 21 करोड़ के ईंधन की बचत हुई है तथा कार्बन उत्सर्जन में भी कमी आई है।

    स्वच्छता' पर्यावरण संरक्षण का एक प्रमुख अंग है जिसे ध्यान में रखते हुए 'स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत भारतीय रेल द्वारा लगभग सभी ट्रेनों में बायो टॉयलेट लगाया गया जिससे अब कोचों से गंदगी (मल-मूत्र) पटरियों पर नहीं गिरता है। इन प्रयासों से रेल की पटरियों पर प्रतिदिन गिरने वाले 2 लाख 74 हजार लीटर गंदगी को रोका जा सका जिससे स्वच्छता में उल्लेखनीय सुधार होने के साथ इस गंदगी से पटरियों एवं उनकी फिटिंग का क्षरण भी रोका जा सका है जिससे सम्पूर्ण भारतीय रेल पर लगभग रु 400 करोड़ की बचत प्रतिवर्ष हो रही है। पूर्वोत्तर रेलवे पर 3355 कोचों में बायो-टॉयलेट लगाया गया है, शेष बचे 14 डबल डेकर कोच में से 5 कोचों में बायो-टॉयलेट लगा दिया गया है बाकी कोचों में भी कार्य प्रगति पर है। स्वच्छता कार्यक्रम के अंतर्गत पूर्वोत्तर रेलवे द्वारा वर्ष 2020-21 मे रिकार्ड स्क्रैप निस्तारण कर सम्पूर्ण भारतीय रेल पर प्रथम स्थान पर रहा।

    पर्यावरण संरक्षण के अंतर्गत अन्य महत्वपूर्ण विषयों जैसे की ऊर्जा संरक्षण एवं जल संरक्षण के क्षेत्र में भी रेलवे द्वारा विशेष कार्य किया जा रहा है, पूर्वोत्तर रेलवे के कार्यालय भवनों एवं स्टेशनों पर सौर ऊर्जा के पैनल लगाए गए हैं। जिससे लगभग 25 लाख यूनिट सौर ऊर्जा का उत्पादन किया गया जिसके फलस्वरूप लगभग रु 1 करोड़ की बचत हुई है। इसी प्रकार जल संरक्षण की लिए ऐसे सभी भवन जहां छत का क्षेत्रफल 200 वर्ग मीटर से ज्यादा है वहाँ 'रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम' लगाया जा रहा है, रेलवे के ज्यादातर भवनों मे यह व्यवस्था क्रियाशील है।

    पूर्वोत्तर रेलवे पर हर वर्ष वृक्षरोपण का कार्यक्रम योजनाबद्ध तरीके से किया जाता है, वर्ष 2020-21 में कुल 9 लाख पौधे लगाए गए हैं इस वर्ष भी 8 लाख पौधों को लगाए जाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है जिसका शुभारंभ 5 जून यानि कि पर्यावरण दिवस के अवसर से किया जाएगा। रेलवे पर वृक्षारोपण कोई कार्य नहीं अपितु जीवन शैली है, जब भी कोई भी निरीक्षण हो अथवा कोई भी कार्यक्रम हो उसमे वृक्षारोपण एक अभिन्न हिस्सा की तरह सम्मिलित होता है। इसकी बानगी रेलवे के कार्यालयों एवं कॉलोनियों से साफ परिलक्षित होती है, रेलवे के सरकारी आवासों में रहने वाले रेलकर्मी स्वयं अपने आवासों मे पौधरोपण कर उसको पोषित करते हैं। पौधों के बेहतर रख रखाव के लिए नवप्रयोग के तौर पर पौधे के साथ उसे लगाने वाले अधिकारी कर्मचारी का नेम प्लेट भी लगा दिया जाता है। पूर्वोत्तर रेलवे के तीनों मंडलों में रेलपथ के किनारे खाली पड़ी भूमि पर तीन-तीन ग्रीन नर्सरियाँ भी विकसित की गई हैं।

    वर्तमान परिवेश में भारतीय रेल सबसे संरक्षित, सुरक्षित, गतिमान, हरित एवं पर्यावरण मित्रवत यातायात साधन बन कर उभरी है।