Mumkin hai India

  • Gallery

    पश्चिम बंगाल के डीजीपी बने सारण के लाल पी नीरज नयन

    2021-03-10

    छपरा : बिहार का सारण जिला रतनगर्भा धरती रही है और आज इस कड़ी में एक और नाम जुड़ गया जब पश्चिम बंगाल के डीजीपी के रूप में पी नीरज नयन ने अपना पदभार संभाला इसके साथ ही सारण जिले का नाम भी लोगों के जुबान पर आ गया पी नीरज नयन सारण जिले के मांझी प्रखंड के सीतलपुर गांव के मूल निवासी हैं उनके डीजीपी के पदभार ग्रहण करने के साथ ही जिले के लोगों में खुशी की लहर दौड़ गई पश्चिम बंगाल में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर नामांकन की प्रक्रिया चालू हो गई है और इसी के बीच निर्वाचन आयोग ने मंगलवार को राज्य के पुलिस महानिदेशक वीरेंद्र को उनके पद से हटा दिया थाऔर वीरेंद्र की जगह पर निर्वाचन आयोग ने पी नीरज नयन को राज्य का नया डीजीपी बनाया है । इस आशय की जानकारी निर्वाचन आयोग ने एक पत्र जारी करके दी है 1987 बैच के आईपीएस अधिकारी पी नीरज नयन में बुधवार को पश्चिम बंगाल के नए डीजीपी का पदभार संभाल लिया पूर्व डीजीपी वीरेंद्र ने उन्हें नए डीजीपी का पद स्थानांतरित किया इसके पहले कोलकाता के सीपी को हटाकर सोमेन मित्रा को नया सीपी बनाया गया था इसी तरह से एडीजी कानून व्यवस्था को भी बदल दिया गया है गौरतलब है कि 1987 बैच के आईपीएस अधिकारी पी नीरज नयन और वर्तमान में एडीजी प्रशासनिक पद पर कार्यरत थे इसके पहले वे निरंतर चर्चा में आए थे जब केंद्र सरकार और ममता बनर्जी के बीच मतभेद हुआ था उस समय पी नीरज नयन सहित तीन अधिकारियों को केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर जाना था । लेकिन केंद्र और बंगाल सरकार के बीच टकराव के कारण यह संभव नहीं हो सका जबकि पूर्व डीजीपी वीरेंद्र को चुनाव आयोग ने दरकिनार कर दिया है चुनाव आयोग ने अपने आदेश में कहा है कि वीरेंद्र को चुनाव कार्य से दूर रखा जाए उन्हें प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से कोई भी जिम्मेदारी नहीं दी जाएगी बता दें कि जेपी नड्डा के काफिले पर पथराव के समय वीरेंद्र ही डीजीपी थे जिसमें कार्रवाई नहीं करने के कारण उनकी खूब आलोचना हुई थी वह पी नीरज नयन के बंगाल के डीजीपी बनने से सारण जिला में हर्ष की लहर है क्योंकि डीजीपी पी नीरज नयन सारण जिले के मांझी प्रखंड के सीतलपुर गांव के मूल निवासी हैं।