Mumkin hai India

  • ताजा खबरें

    मेडिफ्री डिजिटल मोबाईल एप हुआ लांच ! जाने क्या है खास

    सारण में बेटा नहीं जनने के कारण गई प्रमिला की जान

    छपरा: पचास हजार का ईनामी अपराधी को सारण पुलिस ने किया गिरफ्तार

    मांझी: चाकू का भय दिखा कर दिनदहाड़े बाइक और मोबाइल की लूट

    मांझी: चाकू मार किया जख्मी 18 हजार लूट फरार हुए अपराधी

    छपरा: सारण जिले में असामाजिक तत्व व अपराधी किस्म के लोगो की खैर नहीं - सारण पुलिस

    Covid-19 गाइडलाइन उल्लंघन मामले में गायिका निशा उपाध्याय पर प्राथमिकी दर्ज मैरिज हॉल हुआ सील

    यूएनएससी की खुली बहस में भारत ने दुनिया का ध्यान साइबर स्पेस के गलत इस्तेमाल की तरफ खींचा

    मुख्यमंत्री केजरीवाल का एलान, पंजाब में 'आप' की सरकार बानी तो 300 यूनिट बिजली होगी फ्री

    बालाजी श्रीवास्तव दिल्ली पुलिस के नए कमिश्नर होंगे। दिल्ली पुलिस कमिश्नर

    लक्ष्य हासिल करने के लिए दृढ़ संकल्प, लगन के साथ सही दिशा में प्रयास बेहद जरूरी- दीपक आनंद

    ठनका गिरने से युवती की मौत

    कोरोना की लड़ाई में विपक्षी दल बाधक, जनता को कर रही है गुमराह: जेपी नड्डा

    अगले सप्ताह 'अग्नि प्राइम' ​मिसाइल का होगा ​परीक्षण ​​​​, उड़ीसा के तट पर हो रहा है तैयारी

    बंगाल सरकार ने माध्यमिक और उच्च-माध्यमिक की परीक्षाएं की रद्द

    ना तो भाजपा का सक्रिय सदस्य हूं, ना ही किसी संगठन से जुड़ा व्यक्ति हूं: वसीम रिजवी

    लाहौर में आतंकी हाफिस सईद के घर के पास हुए धमाके में तीन लोगों की मौत, 23 घायल

    छपरा: तेज आंधी पानी के दौरान ठनका गिरने से एक युवक की मौत

    छपरा: बाबा रामदेव के द्वारा किए गए आपत्तिजनक टिप्पणी के विरोध में डॉक्टरों का आक्रोश

    SC ने12वीं की परीक्षाएं रद्द नहीं करने वाले राज्यों को भेजा नोटिस

    गृह मंत्रालय ने हटाई मुकुल रॉय की Z सिक्‍योरिटी

    राम मंदिर ट्रस्ट मामला:नोएडा से लेकर प्रयागराज तक कांग्रेस का जोरदार प्रदर्शन, हुई गिरफ्तारियां

    CBSE RESULT: अगले महीने जारी होगा 12वीं बोर्ड का रिजल्ट, इस आधार पर निर्धारित होंगे अंक

    दक्षिण सूडान में 135 भारतीय सैनिक संयुक्त राष्ट्र पदक से सम्मनित

    सुप्रीम कोर्ट ने इटली के दो नौसैनिकों पर भारत में चल रहे मुकदमे को बंद करने का दिया आदेश

    सीआईएसएफ ने संभाली भारत बायोटेक के परिसर की सुरक्षा की जिम्मेदारी

    अब गुजरात मे भी शादी के लिए जबरन धर्म परिवर्तन कराना होगा अपराध, लव जिहाद कानून हुआ लागू

    Gallery

    इलाज करवाने के लिए अब अस्पताल आना जरूरी नहीं: डीपीएम

    2021-08-21

    सुपौल, 21 अगस्त: प्राकृतिक रूप से दूर एवं बरसात के इस समय में यातायात संबंधी सहित अन्य कई प्रकार की परेशानियों के बीच अब कोई भी व्यक्ति सरकारी चिकित्सकों से अपना मुफ्त में इलाज करवा सकते हैं। इसके लिए सरकार द्वारा ई-संजीवनी एप की व्यवस्था की गई है। इस एप का उपयोग करने के लिए लोगों को गूगल प्ले स्टोर से ई-संजीवनी एप का अपने मोबाइल में इंसटाल करना होता है। इंसटाल होने के बाद चरणबद्ध तरीके से आप अपने आपको इस एप में पंजीकृत करते हुए सरकारी चिकित्सकों से मुफ्त में अपना इलाज करवा सकते हैं। सरकार की महत्वपूर्ण योजना का लाभ जिले के कई हिस्सों के लोग उठा रहे हैं।

    घर बैठे करा सकते हैं अपना इलाज:
    जिला कार्यक्रम प्रबंधक बाल कृष्ण चैधरी ने बताया कोरोना काल में जब लोग अपना इलाज करवाने अस्पताल आना नहीं चाह रहे थे। जिसको देखते हुए सरकार द्वारा ऑनलाइन लोगों को चिकित्सीय सलाह उपलब्ध कराने के उद्देश्य से ई-संजीवन एप लांच किया गया। जो अभी के समय में भी काफी प्रासंगिक है। जिले के दूर-दराज के ग्रामीण, यातायात के संबंधी परेशानियों सहित चिकित्सीय सलाह लेने में हो रही कई प्रकार की कठिनाइयों से बचते हुए लोग अपना इलाज ई-संजीवनी के माध्यम से करवा रहे हैं। लोगों को चाहिए कि वे इस एप का अधिक से अधिक लाभ उठायें। 

    कई फायदे हैं इसके उपयोग के:
    बाल कृष्ण चैधरी ने इस एप के उपयोग के फायदे बताते हुए कहा- सबसे पहले तो स्वास्थ्य संबंधी समान्य परेशानियों में लोग अस्पताल आने-जाने से बच जाते हैं। वहीं अस्पताल आने के बाद भी अन्य कई प्रकार की परेशानियाँ जैसे इलाज करवाने के लिए अस्पताल के काउण्टर से पर्ची कटाना, पर्ची कटाने के बाद चिकित्सक से मिलने के लिए लाइन में लगना आदि। लेकिन इस एप के माध्यम से अस्पतालों में काम कर रहे प्रमाणिक चिकित्सकों द्वारा रोगियों को मुफ्त में इलाज मिल जाता है। इन सब के अलावा यदि आप अपना इलाज करवाने अस्तताल आ रहे हैं तो अपने साथ अन्य परिजन को भी अपनी सहायता के लिए लाते हैं। ऐसे में यातायात में अतिरिक्त खर्च मरीजों को अस्तताल पहुँचने के दौरान करना पड़ता है। ई-संजीवनी के माध्यम से इलाज करवाने से आप इससे भी बच जाते हैं। यही नहीं आप अपनी परेशानी चिकित्सकों को दिखा भी सकते हैं। इस एप में ऐसी भी व्यवस्था की गई है। इसलिए लोगों को चाहिए कि ई-संजीवनी एप का उपयोग करते हुए घर बैठे ही अपना सफल इलाज सरकारी चिकित्सकों द्वारा मुफ्त में करवायें।