Mumkin hai India

  • ताजा खबरें

    सारण में बेटा नहीं जनने के कारण गई प्रमिला की जान

    छपरा: पचास हजार का ईनामी अपराधी को सारण पुलिस ने किया गिरफ्तार

    मांझी: चाकू का भय दिखा कर दिनदहाड़े बाइक और मोबाइल की लूट

    मांझी: चाकू मार किया जख्मी 18 हजार लूट फरार हुए अपराधी

    छपरा: सारण जिले में असामाजिक तत्व व अपराधी किस्म के लोगो की खैर नहीं - सारण पुलिस

    Covid-19 गाइडलाइन उल्लंघन मामले में गायिका निशा उपाध्याय पर प्राथमिकी दर्ज मैरिज हॉल हुआ सील

    यूएनएससी की खुली बहस में भारत ने दुनिया का ध्यान साइबर स्पेस के गलत इस्तेमाल की तरफ खींचा

    मुख्यमंत्री केजरीवाल का एलान, पंजाब में 'आप' की सरकार बानी तो 300 यूनिट बिजली होगी फ्री

    बालाजी श्रीवास्तव दिल्ली पुलिस के नए कमिश्नर होंगे। दिल्ली पुलिस कमिश्नर

    लक्ष्य हासिल करने के लिए दृढ़ संकल्प, लगन के साथ सही दिशा में प्रयास बेहद जरूरी- दीपक आनंद

    ठनका गिरने से युवती की मौत

    कोरोना की लड़ाई में विपक्षी दल बाधक, जनता को कर रही है गुमराह: जेपी नड्डा

    अगले सप्ताह 'अग्नि प्राइम' ​मिसाइल का होगा ​परीक्षण ​​​​, उड़ीसा के तट पर हो रहा है तैयारी

    बंगाल सरकार ने माध्यमिक और उच्च-माध्यमिक की परीक्षाएं की रद्द

    ना तो भाजपा का सक्रिय सदस्य हूं, ना ही किसी संगठन से जुड़ा व्यक्ति हूं: वसीम रिजवी

    लाहौर में आतंकी हाफिस सईद के घर के पास हुए धमाके में तीन लोगों की मौत, 23 घायल

    छपरा: तेज आंधी पानी के दौरान ठनका गिरने से एक युवक की मौत

    छपरा: बाबा रामदेव के द्वारा किए गए आपत्तिजनक टिप्पणी के विरोध में डॉक्टरों का आक्रोश

    SC ने12वीं की परीक्षाएं रद्द नहीं करने वाले राज्यों को भेजा नोटिस

    गृह मंत्रालय ने हटाई मुकुल रॉय की Z सिक्‍योरिटी

    राम मंदिर ट्रस्ट मामला:नोएडा से लेकर प्रयागराज तक कांग्रेस का जोरदार प्रदर्शन, हुई गिरफ्तारियां

    CBSE RESULT: अगले महीने जारी होगा 12वीं बोर्ड का रिजल्ट, इस आधार पर निर्धारित होंगे अंक

    दक्षिण सूडान में 135 भारतीय सैनिक संयुक्त राष्ट्र पदक से सम्मनित

    सुप्रीम कोर्ट ने इटली के दो नौसैनिकों पर भारत में चल रहे मुकदमे को बंद करने का दिया आदेश

    सीआईएसएफ ने संभाली भारत बायोटेक के परिसर की सुरक्षा की जिम्मेदारी

    अब गुजरात मे भी शादी के लिए जबरन धर्म परिवर्तन कराना होगा अपराध, लव जिहाद कानून हुआ लागू

    Gallery

    कोरोना के तीसरे चक्र की सम्भावना को लेकर सतर्कता ज़रूरी: सिविल सर्जन

    2021-08-21

    पूर्णिया, 21 अगस्त: कोरोना संक्रमण काल ने आम आदमी को जितना प्रभावित किया है, शायद उससे कहीं ज़्यादा युवा पीढ़ी, युवक एवं युवतियों सहित  स्कूली बच्चों को भी प्रभावित किया है। ऐसे में आवश्यकता इस बात की है कि युवा पीढ़ी और युवक एवं युवतियों को सामाजिक और मानसिक स्तर पर प्रोत्साहित किया जाए। हालांकि वर्तमान समय में राज्य सरकार के द्वारा दिये गए दिशा-निर्देश के आलोक में राज्य के सभी स्कूल व कॉलेज खुल चुके हैं। बहुत दिनों के बाद किशोर एवं युवाओं को अपने मनःस्थिति के बारे में दोस्तों के साथ चर्चा करने को मिलेगा। एक दूसरे से अपनी मन की बातों से अवगत कराने की आजादी मिल रही है। इससे मानसिक स्थिति में निश्चित रूप से बदलाव देखने को मिलेगा। सिविल सर्जन डॉ एसके वर्मा ने पुनर्वास और किशोर मनोविज्ञान के बारे में बताते हुए कहा कोरोना संक्रमण काल के दूसरे दौर के बाद की स्थिति में काफ़ी सकारात्मक बदलाव आया है। हालांकि एक दूसरे से मिलने के साथ ही अभी भी कोरोना के तीसरे चक्र को लेकर संभावना बनी हुई है। जिस कारण कोरोना प्रोटोकॉल का अनुपालन हर हाल में काफ़ी हद तक किया जा रहा है। ताकि फिर से कोरोना संक्रमण वायरस के संक्रमण से खुद एवं दूसरों की सुरक्षा की जा सके।

    कोविड-19 गाइडलाइन के अनुसार युवाओं को घर से निकलने पर लगी थी पाबंदी: सिविल सर्जन
    सिविल सर्जन डॉ एसके वर्मा ने युवाओं के मानसिक स्वास्थ्य पर महामारी के प्रभाव को लेकर बताया कि शताब्दी की सबसे बड़ी त्रासदी में देश वासियों को मुश्किलभरे दौर से गुजरना पड़ा है। जिसका प्रभाव सबसे ज्यादा युवा पीढ़ियों पर पड़ा है। जो समय के साथ खुद को ढाल नहीं पा रहे हैं। उनकी दिनचर्या में काफ़ी बदलाव आ गया है। घर पर रहने के कारण अधिक खाना खाने से शरीर पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है। कुछ वैसे भी युवा हैं जो अकारण चिड़चिड़ा या आक्रामक हो गए थे। कुछ युवाओं के व्यवहार में बहुत ज़्यादा गंभीरता यानी ओसीडी (अब्सेसिव कंपलसिव डिसआर्डर) का असर भी दिख रहा है। जिसका कारण यह है कि कोरोना संक्रमण काल के दौरान स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी कोविड-19 गाइडलाइन के अनुसार घर से निकलना मुश्किल हो गया था। हालांकि घर में रहने से ज्यादातर समय  मोबाइल पर व्यतित हो रहा था। ऐसे में उनकी एकाग्रता काफ़ी कम हो गई है। कुछ वैसे भी युवा हैं जिन्हें अपने निकट सगे संबंधियों को खोने के बाद समस्या उत्पन्न हो गई है।


    किशोरों की समस्याओं को धैर्यपूर्वक समझने की जरूरत: सिविल सर्जन
    सिविल सर्जन डॉ एसके वर्मा ने बताया कोविड-19 संक्रमण वायरस के कारण लगाई गई पाबंदियों के कारण बच्चे घर से बाहर होने वाली अन्य तरह की गतिविधियों में भाग नहीं ले पा रहे हैं। हालांकि अब धीरे-धीरे स्कूल और कॉलेज खुल चुके हैं। इससे पहले स्कूली बच्चे कैंपस लाइफ और दोस्तों को मिस कर रहे थे। जिनसे अक्सर वह अपने मन की बातें साझा किया करते थे। इन सभी परिस्थितियों के बीच सामंजस्य बनाना बेहद मुश्किल भरा दौर था। किशोरों की समस्याओं को धैर्यपूर्वक समझने की जरूरत हैं। इसके साथ ही यह जानने की भी जरूरत है कि किशोरों की ऊर्जा को पारिवारिक कार्यक्रम और ऐसी रचनात्मक कार्यों में लगाएं, जिससे वह खुद को अकेलापन महसूस नहीं  करें। आप सभी से अपील है कि अपने बच्चों के लिए एक अच्छा दोस्त बनें, उसके साथ समय व्यतित करें। किसी भी तरह के कार्यो के लिए उन्हें प्रेरित करें। अभिभावकों को भी अपनी दिनचर्या को व्यवस्थित करने की कोशिश करनी चाहिए। अधिक से अधिक समय अपने बच्चों को देने की कोशिश करें। अभिभावकों को यह समझना होगा कि किशोर इस समय मुश्किल दौर से गुजर रहा हैं।