Mumkin hai India

  • Gallery

    किशनगंज जिले के सभी पीएचसी, सीएचसी एवं एपीएचसी में सुरक्षित प्रसव की सुविधा उपलब्ध

    2021-08-17

    किशनगंज, 17 किशनगंज: जिले में स्वास्थ्य संबंधी सेवाओं के गुणात्मक सुधार को लेकर जिलाधिकारी डॉ आदित्य प्रकाश के मार्गदर्शन में विशेष रणनीति पर अमल किया जा रहा है। जिलाधिकारी के निर्देशनुसार जिले के सभी प्राथमिक एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी की अध्यक्षता में साप्ताहिक बैठक का आयोजन किया गया। स्वास्थ्य संबंधी मामलों की समीक्षात्मक बैठक में एएनएम, आशा , प्रखंड सामुदायिक समन्वयक को कई दिशा निर्देश दिए गये। सिविल सर्जन डॉ श्री नंदन ने बताया जिले में सुरक्षित स्वास्थ्य सेवा प्रदान करने के लिए हम हमेशा  प्रयासरत हैं। इसी आलोक में मंगलवार को सभी प्राथमिक एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में साप्ताहिक बैठक का आयोजन किया गया है। 

    जिले के सभी पीएचसी, सीएचसी एवं एपीएचसी में सुरक्षित प्रसव की हैं सुविधा उपलब्ध: 
    जिलाधिकारी से प्राप्त दिशा निर्देश के आलोक में स्वास्थ्य विभाग ने इसके लिये कारगर रणनीति तैयार की है। सिविल सर्जन डॉ श्री नंदन ने बताया कि जिले के सभी पीएचसी, सीएचसी एवं एपीएचसी के अलावा महेश्बथ्ना किशनगंज, लोहागारा बहादुरगंज, कैरिबिरपुर कोचाधामन एच एस सी में भी सुरक्षित प्रसव की सुविधा उपलब्ध है। इसके अलावा सभी हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर पर स्वास्थ्य संबंधी विशेष गतिविधियों के आयोजन को लेकर विभाग ने अपनी तैयारियां कर ली हैं। इन केंद्रों पर स्वास्थ्य संबंधी विभिन्न मामलों को लेकर लोगों की बेहतर काउंसिलिंग का इंतजाम सुनिश्चित कराया जा रहा हैं। इतना ही नहीं विभाग हर महीने में एक दिन इन सेंटरों पर दंत चिकित्सा व इससे जुड़े जरूरी परामर्श के इंतजाम के प्रयासों में जुटा है। एचडब्ल्यूसी में आयोजित होने वाली इन गतिविधियों का वरीय स्वास्थ्य अधिकारियों के द्वारा निरीक्षण किया जायेगा। साथ ही इन सेवाओं को बेहतर बनाने के लिये जरूरी दिशा निर्देश दिये जायेंगे। 

    स्वास्थ्य सेवाओं के गुणात्मक सुधार के लिहाज से योजना महत्वपूर्ण: 
    समाज के अंतिम पंक्ति में खड़े लोगों तक जरूरी स्वास्थ्य सेवाओं की पहुंच सुनिश्चित कराने के उद्देश्य से जिलाधिकारी के दिशा निर्देश पर संचालित इस विशेष अभियान को खासतौर पर उपयोगी बताते हुए डीपीएम डॉ मुनाजिम ने कहा कि इससे जमीनी स्तर के स्वास्थ्य कार्यकर्ता के मनोबल में वृद्धि होगी। कोरोना संकट के दौर में जो स्वास्थ्य संबंधी योजनाओं का क्रियान्वयन प्रभावित हुआ है इसे फिर से मजबूती दी जा सकेगी। साथ ही उच्च स्तरीय स्वास्थ्य संस्थानों में मरीजों के दबाव को कम करने में भी यह बेहद उपयोगी साबित होगा। इससे इन स्वास्थ्य संस्थानों के माध्यम से लोगों को गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराना आसान होगा। जाँच एवं टीकाकरण में सोशल डिस्टेंसिंग का मुख्य रूप से पालन करने की भी बात कही। टीकाकरण के साथ ही कोविड का अधिक से अधिक जाँच करने के भी निर्देश दिए ताकि कोविड संक्रमण के चेन को तोड़ने में सफलता मिल सके। उन्होंने कहा  कोविड मरीजों का विशेष ख्याल रखें। गम्भीर मरीजों को तुरंत रेफर करें। सदर अस्पताल व जिला कंट्रोल से सम्पर्क बनाकर रखें। साथ ही अस्पताल अधीक्षक डॉ अनवर आलम ने कहा कि अगर कोई भी स्वास्थ्य कर्मी अपने कार्य से अनुपस्थित पाए जाएंगे तो उनके विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी।
     
    साफ सफाई के दिए निर्देश: 
    सिविल सर्जन डॉ श्री नन्दन के निर्देश के आलोक  में सभी प्रभारी चिकित्सा प्रभारी ने बताया कि अस्पताल के प्रसव कक्ष,  अस्पताल परिसर, ओटी, परिसर की पूरी साफ सफाई की जाय। उन्होंने कहा 18 वर्षों से ऊपर के लोगों का कोविड टीकाकरण करना, मास्क लगाना, बार - बार हाथ धोना और हमेशा उचित दूरी का पालन करना बेहद आवश्यक हैं। प्रखंड के स्वास्थ्य केन्दों पर उपलब्ध दवाओं के अलावा बाकी अन्य दवाओं को अविलम्ब क्रय करने का आदेश दिया गया है। साथ ही यह भी निर्देश दिया है कि बाहर से आनेवाले सभी लोगों की कोविड की जाँच की जाए एवं मरीज को किसी प्रकार की तकलीफ होने पर उन्हें तुरन्त रेफर किया जाय।