Mumkin hai India

  • Gallery

    किशनगंज: जिले के शहरी क्षेत्रों में लक्ष्य के अनुरूप 78% व्यक्तियों का टीकाकरण कार्य पूर्ण

    2021-07-28

    जिले के शहरी क्षेत्रों में लक्ष्य के अनुरूप 78% व्यक्तियों का टीकाकरण कार्य पूर्ण शहरी क्षेत्रों में 17 % लोगों ने दोनों टीकाकरण करवा कर अपने आप को किया सुरक्षित: सामूहिक प्रयास से सफल हुआ अभियान: शेष लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए टीकाकरण कार्य जारी: किशनगंज, 28 जुलाई। कोरोना महामारी की पहली एवं दूसरी लहर में जिले के शहरी क्षेत्र के ही ज्यादा व्यक्ति संक्रमित हुए थे। किशनगंज नगर परिषद के कुल 4917 व्यक्ति संक्रमित हुए थे जिनमें से 4875 व्यक्ति ठीक भी हुए हैं। वर्तमान में 07 व्यक्ति अभी भी संक्रमित हैं। जिले के शहरी क्षेत्रों को शतप्रतिशत संक्रमण मुक्त करने के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा तेजी से वैक्सीनेशन अभियान चलाया जा रहा है। जिसका असर अब दिखने लगा है। लोग बड़ी संख्या में वैक्सीन लगवाने के लिए टीकाकरण केंद्रों पर पहुंचने लगे हैं। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार जिले के शहरी क्षेत्रों के सभी वार्ड में 78% से अधिक लोगों का टीकाकरण कर दिया गया है। इस अभियान की सफलता का श्रेय सिर्फ स्वास्थ्य विभाग ही नही बल्कि जिला प्रशासन के साथ अन्य सभी सहयोगी विभागों को भी जाता है। जिन्होंने जिलाधिकारी डॉ आदित्य प्रकाश के दिशानिर्देश में एकजुट होकर कार्य किया है। शत प्रतिशत लोगों का टीकाकरण प्राथमिकता: जिलाधिकारी जिलाधिकारी डॉ आदित्य प्रकाश ने बताया माह दिसम्बर तक सम्पूर्ण जिला में शतप्रतिशत टीकाकरण लक्ष्य को प्राप्त कर लिया जायेगा। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग के साथ सभी विभागों को दिशा निर्देश दिया जा चुका है। उन्होंने कहा अभी संक्रमण पूरी तरह से यह टला नहीं है और थोड़ी सी भी लापरवाही एक बार फिर कोरोना संक्रमण को रफ्तार पकड़ने से नहीं रोक सकती है। घटते-बढ़ते संक्रमितों से सतर्क किया जा रहा है, जो लोग इसकी चपेट में नहीं आए हैं। वजह यह कि जो संक्रमित नहीं हुए हैं उनके संक्रमित होने की संभावना अभी पूरी तरह खत्म नहीं हुई है। जो संक्रमित होकर स्वस्थ हुए हैं, उनके लिए दोबारा संक्रमित होने की संभावना बरकरार है। जरूरत है सरकार और स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी गाइडलाइन का पालन करने की। उन्होंने कहा ऐसे में शहर में तभी निकलें जब बेहद जरूरी काम हो या फिर नौकरी-पेशा हैं और दफ्तर जाना जरूरी है। बेवजह भीड़ का हिस्सा बनना, परिवार व समाज के लिए नुकसानदायक साबित हो सकता है। भीड़ में इस बात का अंदाजा लगा पाना कि कौन कोरोना संक्रमित है और कौन स्वस्थ यह मुमकिन नहीं है। सावधानी है सबसे सरल उपाय है। क्योंकि कोरोना संक्रमण अदृश्य है। बताया कोरोना से बचाव के लिए टीकाकरण ज़रूर कराएं। उन्होंने कहा कि टीकाकरण को लेकर क्षेत्र में लोगों के बीच काफी उत्साह दिखा। उन्होंने कहा कि तमाम शंकाओं को दरकिनार करते हुए लोगों ने टीकाकरण के प्रति अपना उत्साह जाहिर किया। स्वास्थ्य विभाग एवं जिला प्रशासन की बेहतर रणनीति बनी कारगर: जिलाधिकारी डॉ आदित्य प्रकाश एवं स्वास्थ्य विभाग की बेहतर रणनीति का परिणाम रहा कि जिला टीकाकरण में तेजी से बढ़ रहा है। टीकाकरण को लेकर जिला पदाधिकारी एवं स्वास्थ्य कर्मियों के साथ नियमित बैठक एवं टीकाकरण उपलब्धि की समीक्षा की गई। जिससे टीकाकरण की गति को अधिक बल मिला। वहीं, स्वास्थ विभाग ने टीकाकरण के लिए जिले में चरणबद्ध तरीके से अभियान चलाया। शुरुआत में टीकाकरण गति धीमी होने के कारण स्वास्थ्य विभाग ने रणनीति बनाकर धर्मगुरुओं के साथ तथा पंचायती राज्य सदस्यों के साथ लगातार बैठक की। साथ ही शहरी तथा ग्रामीण क्षेत्रों में टीका एक्सप्रेस के माध्यम से लोगों के घर-घर पहुंच टीकाकरण किया गया है, जिसका प्रतिफल रहा कि जिले में लक्ष्य के 24.1% लोगों का टीकाकरण हो चुका है। जिले के सभी वैक्सीनेशन सेंटरों पर पूरे जोर-शोर के साथ चल रहा है वैक्सीनेशन अभियान: सिविल सर्जन डॉ श्री नंदन ने बताया जिला पदाधिकारी डॉ आदित्य प्रकाश के निर्देश के आलोक में जिले के किशनगंज शहरी क्षेत्र में 62644 के लक्ष्य के आलोक में 48568 व्यक्तियों को प्रथम टीका एवं 13555 व्यक्ति को दूसरा डोज, बहादुरगंज शहरी क्षेत्र 21907 के लक्ष्य के आलोक में 15811 को प्रथम टीका एवं 1852 व्यक्ति को दूसरा डोज तथा ठाकुरगंज शहरी क्षेत्र 10865 के लक्ष्य के आलोक में 9931 को प्रथम टीका एवं 897 व्यक्ति को दूसरा डोज दिया जा चुका है। जल्द ही हम शहरी क्षेत्र में शतप्रतिशत टीकाकरण लक्ष्य को प्राप्त कर लेंगे। लोगों की भ्रांति तोड़ने में मिली सफलता: सिविल सर्जन डॉ श्री नंदन ने बताया शुरुआत में लोगों के मन में टीकाकरण को लेकर कई तरह की भ्रांतियां थी, जिसे सामुदायिक बैठक तथा स्वास्थ्य विभाग के कर्मियों के द्वारा दूर किया गया। लोगों को समझाया गया कि वायरस से लड़ने का एकमात्र उपाय टीकाकरण ही है। इसलिए अपना टीकाकरण जरूर करवाएं। इस वायरस से घबराने की जरूरत नहीं बल्कि लड़ने की जरूरत है। स्वास्थ्य विभाग एवं जिला प्रशाषण के द्वारा लगातार सामुदायिक बैठक कर क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों, उलेमाओं, इमामों, गांव के बुद्धजीवियों एवं ज़िम्मेदार लोगों के साथ लोगों को टीकाकरण के लिए जागरूक किया व अपील की गई। बैठक में कोरोना टीकाकरण के फायदे एवं लोगों के सवाल जवाब के बाद उनके अंदर फैली भ्रांतियों को दूर करते हुए टीकाकरण के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई।