Mumkin hai India

  • ताजा खबरें

    सारण में बेटा नहीं जनने के कारण गई प्रमिला की जान

    छपरा: पचास हजार का ईनामी अपराधी को सारण पुलिस ने किया गिरफ्तार

    मांझी: चाकू का भय दिखा कर दिनदहाड़े बाइक और मोबाइल की लूट

    मांझी: चाकू मार किया जख्मी 18 हजार लूट फरार हुए अपराधी

    छपरा: सारण जिले में असामाजिक तत्व व अपराधी किस्म के लोगो की खैर नहीं - सारण पुलिस

    Covid-19 गाइडलाइन उल्लंघन मामले में गायिका निशा उपाध्याय पर प्राथमिकी दर्ज मैरिज हॉल हुआ सील

    यूएनएससी की खुली बहस में भारत ने दुनिया का ध्यान साइबर स्पेस के गलत इस्तेमाल की तरफ खींचा

    मुख्यमंत्री केजरीवाल का एलान, पंजाब में 'आप' की सरकार बानी तो 300 यूनिट बिजली होगी फ्री

    बालाजी श्रीवास्तव दिल्ली पुलिस के नए कमिश्नर होंगे। दिल्ली पुलिस कमिश्नर

    लक्ष्य हासिल करने के लिए दृढ़ संकल्प, लगन के साथ सही दिशा में प्रयास बेहद जरूरी- दीपक आनंद

    ठनका गिरने से युवती की मौत

    कोरोना की लड़ाई में विपक्षी दल बाधक, जनता को कर रही है गुमराह: जेपी नड्डा

    अगले सप्ताह 'अग्नि प्राइम' ​मिसाइल का होगा ​परीक्षण ​​​​, उड़ीसा के तट पर हो रहा है तैयारी

    बंगाल सरकार ने माध्यमिक और उच्च-माध्यमिक की परीक्षाएं की रद्द

    ना तो भाजपा का सक्रिय सदस्य हूं, ना ही किसी संगठन से जुड़ा व्यक्ति हूं: वसीम रिजवी

    लाहौर में आतंकी हाफिस सईद के घर के पास हुए धमाके में तीन लोगों की मौत, 23 घायल

    छपरा: तेज आंधी पानी के दौरान ठनका गिरने से एक युवक की मौत

    छपरा: बाबा रामदेव के द्वारा किए गए आपत्तिजनक टिप्पणी के विरोध में डॉक्टरों का आक्रोश

    SC ने12वीं की परीक्षाएं रद्द नहीं करने वाले राज्यों को भेजा नोटिस

    गृह मंत्रालय ने हटाई मुकुल रॉय की Z सिक्‍योरिटी

    राम मंदिर ट्रस्ट मामला:नोएडा से लेकर प्रयागराज तक कांग्रेस का जोरदार प्रदर्शन, हुई गिरफ्तारियां

    CBSE RESULT: अगले महीने जारी होगा 12वीं बोर्ड का रिजल्ट, इस आधार पर निर्धारित होंगे अंक

    दक्षिण सूडान में 135 भारतीय सैनिक संयुक्त राष्ट्र पदक से सम्मनित

    सुप्रीम कोर्ट ने इटली के दो नौसैनिकों पर भारत में चल रहे मुकदमे को बंद करने का दिया आदेश

    सीआईएसएफ ने संभाली भारत बायोटेक के परिसर की सुरक्षा की जिम्मेदारी

    अब गुजरात मे भी शादी के लिए जबरन धर्म परिवर्तन कराना होगा अपराध, लव जिहाद कानून हुआ लागू

    Gallery

    राष्ट्रीय झंडा अंगीकार दिवस कब मनाया जाता है ,और भारत के इतिहास में सन 1931 क्यो यादगार है?

    2021-07-22

    राष्ट्रीय झंडा अंगीकार दिवस प्रत्येक वर्ष 22 जुलाई को मनाया जाता है। स्वतंत्र राष्ट्र का अपना ध्वज होता हैं जो, उसके स्वतंत्र होने का प्रतीक माना जाता हैं। विश्व के प्रत्येक स्वतंत्र राष्ट्र की तरह भारत का अपना राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा हैं। "तिरंगा" का अर्थ भारतीय राष्ट्रीय ध्वज हैं। भारत के संविधान द्वारा 22 जुलाई 1947 को तिरंगा झंडा अंगीकृत किया गया था। तभी से 22 जुलाई को झंडा अंगीकार दिवस मनाया जाता है। भारत में भारत के ध्वज का इतिहास भी काफ़ी रोचक रहा हैं। ब्रिटिश शासन के दौरान भारत के स्वतंत्रता सेनानी को अंग्रेजों से भारत को स्वतंत्र कराने में एक ध्वज की आवश्यकता महसूस हुई थी। तभी से इसकी कल्पना भी शुरू कर दी गई थी। पहला ध्वज स्वामी विवेकानंद की शिष्या निवेदिता के द्वारा बनाया गया था। जिसे 1906 में पारसी बागान चौक कलकत्ता में कांग्रेस के अधिवेशन में फहराया गया था। द्वितीय ध्वज पेरिस में मैडम कामा और उनके कुछ सहयोगियों ने 1907 में फहराया था। जबकिं तृतीय ध्वज डॉक्टर एनी बेसेंट और लोकमान्य तिलक के द्वारा 1917 में फहराया था।


    1931 ध्वज के इतिहास में यादगार वर्ष रहा है। जिसमें तिरंगा झंडा को अपनाने का प्रस्ताव रखा गया था। तीन रंग की क्षैतिज पट्टी बीच नीले रंग के चक्र से सुशोभित है। इसकी अभिकल्पना पिंगली वेंकैया ने की थी। इसे 15 अगस्त 1947 को अंग्रेजों से भारत के स्वतंत्रता के कुछ दिन पूर्व 22 जुलाई 1947 को आयोजित संविधान सभा की बैठक में अपनाया गया था। सबसे ऊपर केसरिया रंग की पट्टी को देश की ताकत और साहस दर्शाती है। बीच में सफेद पट्टी धर्म चक्र शांति और सत्य का प्रतीक प्रतीक है। सफेद पट्टी के मध्य में चक्र बने हुए है जिसमें चौबीस तीलियां हैं। यह अशोक का स्तंभ से लिया गया है जो सारनाथ में स्थित है। भारतीय राष्ट्रीय ध्वज अपने आप में भारत की एकता शांति समृद्धि और विकास को दर्शाता है। भारतीय झंडा निर्दिष्ट करण के अनुसार झंडा खादीकर बना होना चाहिए यह एक तरह की हाथ से बने हुए कपड़ों से बनाया जाता है। जिसकी शुरूआत गांधी जी ने की थी।

    भारत के इतिहास में झंडा फहराने को लेकर एक मुख्य पड़ाव 2002 में आया जब, भारत के आम नागरिको को भी झंडा फहराने की अनुमति मिली। भारत में कोई भी व्यक्ति किसी भी अवसर पर झंडा फहरा सकता है। 2002 से पहले गणतंत्र दिवस एवं स्वतंत्रता दिवस पर ही झंडा फहराया जा सकता था। लेकिन वर्ष 2002 में इंडियन फ्लैग कोर्ट में संशोधन किया गया और 26 जनवरी 2002 को इसे लागू किया गया। तब से इस संशोधन के द्वारा आम नागरिको को भी झंडा फहराने का मौका मिला। लेकिन अब कोई भी व्यक्ति गर्व से अपने कार्यालय, फैक्ट्री या गाड़ियों में तिरंगा झंडा लगा सकते हैं। साथ ही स्वतंत्रता दिवस एवं गणतंत्र पर फहरा भी सकते हैं।