Mumkin hai India

  • Gallery

    संभावित कोरोना की तीसरी लहर हमारे व्यवहार पर निर्भरः सिविल सर्जन

    2021-07-17

    सहरसा, 17 जुलाई। कोरोना की दूसरी लहर अभी खत्म नहीं हुई है। नये कोरोना संक्रमितों का मिलना जारी है। हालांकि कोरोना के नये मामलों की संख्या लगातार कम पायी जा रही है। कम मिलते मामलों के बीच प्रतिबंधों में सरकार द्वारा छूट दी गई। कुछ प्रतिबंधों के साथ दूकानें एवं उच्चतर शिक्षण संस्थान खुलने लगे हैं। सार्वजनिक गतिविधियों में बेतहाशा वृद्धि देखी जा रही है। शादी-विवाह के कार्यक्रम आये दिन आयोजित किये जा रहे हैं। इन सभी के बीच लोगों द्वारा कोरोना उचित व्यवहार के अनुपालन में लापरवाही बरती जा रही है, जो संभावित कोरोना की तीसरी लहर को आमंत्रित करने के बराबर है।

    संभावित कोरोना की तीसरी लहर प्रकृति से ज्यादा हमारी प्रवृत्ति पर निर्भर-
    सिविल सर्जन डा. अवधेश कुमार ने कहा जिस प्रकार से लोगों द्वारा कोरोना नियमों के पालन में लापरवाही बरती जा रही है। बाजारों में भीड़ बढ़ रही है। सार्वजनिक वाहनों के उपयोग में भी कोविड नियमों की अनदेखी की जा रही  है। उन्होंने कहा कोरोना की तीसरी लहर की संभावना प्रकृति से ज्यादा हमारी प्रवृत्ति पर निर्भर करती है। यदि लोगों द्वारा कोविड अनुरूप व्यवहार का पालन ठीक से नहीं किया गया तो कोरोना की तीसरी लहर आ भी सकती है। कोरोना अनुकूल व्यवहार के प्रति हमारा आचरण ही ये तय करेगा कि कोरोना की कोई भी लहर कब और कितनी तीव्रब्रता से आयेगी।

    टीका अवश्य लगवायें-
    उन्होंने कहा वैश्विक महामारी कोरोना की रोक-थाम के लिए विकसित वैक्सीन ही एकमात्र जरिया है, जिसके द्वारा आपकी जान बचायी जा सकती है। ऐसे में जरूरी है कि 18 वर्ष से अधिक उम्र के सभी लोग  कोविड का टीका जरूर लगवायें। जिले में अभी कोविड- 19 टीकाकरण जारी है। अभी तक जिले में 2,96,050 लोगों को कोविड- 19 का पहला डोज दिया जा चुका है। वहीं 45,240 लोग  अपनी  दूसरी  डोज भी ले चुके हैं। स्वास्थ्य विभाग की टीमें लागातार कोविड- 19 टीकाकरण में लगी हुई  हैं। 18 वर्ष से अधिक आयु के लोगों को चाहिए कि वे अपने निकटतम टीका केन्द्र पर जाकर कोविड- 19 का टीका जरूर लगवायें।

    टीका लगवाने के बाद भी कोविड नियमों का पालन करना जरूरी-
    उन्होंने बताया टीका लेने के बाद भी लोगों को कोविड नियमों का पालन करते रहना चाहिए। जब वे घरों से बाहर निकलें मास्क जरूर लगायें। बाजारों में संयमित होकर समाजिक दूरी के नियमों का पालन करें। हाथों को बार-बार विषाणुमुक्त करते रहें। तभी हम कोरोना को हराने में सफल हो पायेंगे।