Mumkin hai India

  • Gallery

    कोरोना संक्रमण की तीसरे लहर की संभावना को देखते जिले को तीसरे ऑक्सीजन प्लांट की मिली सौगात

    2021-07-08

    अररिया, 08 जुलाई: कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर से सीख लेते हुए जिला स्वास्थ्य विभाग संभावित तीसरी लहर के खतरों को देखते जरूरी तैयारियों के सिलसिले में जुटा हुआ है। इसके लिये ग्रामीण इलाके के चिकित्सकीय संस्थानों को सुविधा संपन्न बनाने का प्रयास किया जा रहा है। ताकि हेल्थ वैलनेश सेंटर, एपीएचसी स्तर पर भी लोगों को कोरोना जांच व इसके समुचित इलाज की सुविधा उपलब्ध कराया जा सके। संक्रमण की दूसरी लहर के दौरान बड़े पैमाने पर लोगों को ऑक्सीजन सिलिंडर की उपलब्धता को लेकर किल्लत का सामना करना पड़ा। संभावित तीसरे लहर को देखते हुए विभाग इसे लेकर बेहद संजीदा है। ताकि आने वाले दिनों में कोरोना सहित अन्य मरीजों को ऑक्सीजन की उपल्ब्धता को लेकर किसी तरह की दिक्कत का सामना न करना पड़े। जिले में ऑक्सीजन की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित कराने के लिये दो ऑक्सीजन प्लांट का निर्माण कार्य अपने अंतिम चरण में है। इसी क्रम में जिले को तीसरे ऑक्सीजन प्लांट की सौगात भी प्राप्त हो चुका है। 

    जिले में तीन प्लांट की मदद से ऑक्सीजन की किल्लत होगी दूर: सिविल सर्जन
    इस संबंध में सिविल सर्जन डॉ एमपी गुप्ता ने कहा कि संक्रमण की दूसरी लहर कई मायनों में पहली लहर से अलग थी। दूसरे लहर के दौरान बड़ी संख्या में लोग कोरोना संक्रमण के शिकार हुए। अधिकांश मरीजों में ऑक्सीजन के स्तर में गिरावट की समस्या देखा गया। लिहाजा उन्हें जरूरी मात्रा में ऑक्सीजन उपलब्ध कराना विभाग के लिये चुनौतीपूर्ण साबित हुआ। इसे देखते हुए जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग की  संयुक्त पहल से जिले में पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन की उपलब्धता सुनिश्चित कराने को लेकर जरूरी पहल किये गये हैं। ताकि अगर संक्रमण की तीसरी लहर अपना असर दिखाता है  तो जिलावासियों को ऑक्सीजन की किल्लत का सामना न करना पड़े। इसे लेकर जिले में दो ऑक्सीजन प्लांट का निर्माण अपने अंतिम चरण में है। वहीं जिले में तीसरे ऑक्सीजन प्लांट की स्थापना को लेकर भी विभागीय स्वीकृति प्राप्त हो चुकी है। 

    सदर अस्पताल में उच्च क्षमता वाले ऑक्सीजन प्लांट का होगा निर्माण: डीपीएम 
    डीपीएम स्वास्थ्य रेहान अशरफ से मिली जानकारी मुताबिक सदर अस्पताल परिसर में 200 लीटर प्रति मिनट उत्पादन क्षमता वाले ऑक्सीजन प्लांट व फारबिसगंज अनुमंडल अस्पताल में 500 लीटर प्रति मिनट उत्पादन क्षमता वाले प्लांट का निर्माण अपने अंतिम चरण में है। दोनों ही प्लांट 15 अगस्त तक पूरी तरह क्रियाशील होने की संभावना है। तो वहीं सदर अस्पताल में 600 लीटर प्रति मिनट ऑक्सीजन उत्पादन क्षमता वाले एक नये प्लांट की स्थापना को लेकर विभागीय स्वीकृति प्राप्त हो चुकी है। जल्द ही इसके लिये भूमि चिह्नित करते हुए जरूरी कार्य आरंभ कर दिये जायेंगे। 

    निरंतर संचालित होगा कोविड कॉल सेंटर: 
    कोरोना संक्रमण की रोकथाम में सदर अस्पताल में संचालित कोविड कॉल सेंटर की उपयोगिता साबित हो चुकी है। इसका संचालन निरंतर किया जायेगा। साथ ही इसका व्यापक प्रचार प्रसार भी किया जायेगा। ताकि जरूरतमंद लोग इसका लाभ ले सकें। सिविल सर्जन के मुताबिक जिले के सभी 60 एचडब्ल्यूसी एक सप्ताह के अंदर संचालित होने लगेंगे। वहां ओपीडी, एनसीडी सहित विभिन्न स्वास्थ्य जांच के साथ प्राथमिकता के आधार पर कोरोना जांच की सुविधा उपलब्ध होगी। ताकि कोरोना के छूपे मरीजों का पता लगाना आसान हो। साथ ही रोगियों को तत्काल जरूरी स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराया जा सके। जो संक्रमण के प्रसार को रोकने में मददगार साबित होगा।