मधेपुरा, 4 जुलाई:कोविड-19 महामारी के दौरान अपेक्षित अनुकूलन के साथ आवश्यक प्रतिरक्षण सेवाओं की निरंतरता "/> 

Mumkin hai India

  • Gallery

    ई-विन (एई)पर स्वास्थ्य पदाधिकारियों एवं कर्मियों का वर्चुअल प्रशिक्षण आयोजित

    2021-07-04

    मधेपुरा, 4 जुलाई:कोविड-19 महामारी के दौरान अपेक्षित अनुकूलन के साथ आवश्यक प्रतिरक्षण सेवाओं की निरंतरता सुनिश्चित करने और बच्चों एवं गर्भवती माताओं के टीकाकरण के लिये ई-विन प्रणाली का उपयोग किया जाता है। आगामी दिनों में ई-विन प्रणाली का एडवांस एडिशन को क्रियान्वित किया जाना है। इसको लेकर संबंधित स्वास्थ्य पदाधिकारियों को प्रशिक्षण देने का निर्देश राज्य स्वास्थ्य समिति ने सभी जिलों को दिया है। इसी निर्देश के क्रम में रविवार को मधेपुरा जिले के सभी प्रखंड के नामित कोल्ड चेन हैंडलर के साथ साथ सभी चिकित्सा पदाधिकारियों एवं प्रखंड स्वास्थ्य प्रबंधकों को *ई-विन प्रणाली के एडवांस एडिशन* पर वर्चुअल प्रशिक्षण दिया गया। प्रशिक्षण कार्यक्रम की अध्यक्षता जिले के सिविल सर्जन डॉ अमरेन्द्र नारायण शाही ने की। जिसमें जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ विपिन कुमार गुप्ता सहित अन्य जिला स्तरीय पदाधिकारी भी वर्चुअल रूप से उपस्थित रहे। प्रशिक्षण देने के कार्य यू एन डी पी के कार्यक्रम पदाधिकारी प्रिय रंजन झा एवम् जिले के भी सी सी एम् प्रसून कुमार ने की।  

    क्या है ई-विन प्रणाली, वैक्सीन के प्रबंधन एवम् भंडारण में क्या है इसकी भूमिका -

    जिले के सिविल सर्जन डॉ अमरेन्द्र नारायण शाही ने बताया सरकार के निर्देश के आलोक में मधेपुरा सहित सूबे के सभी जिलों में नियमित टीकाकरण के सभी वैक्सीन एवम् सिरिंज के उत्तम प्रबंधन भंडारण एवम् वितरण को सुनिश्चित करने के लिए ई-विन प्रणाली का उपयोग किया जा रहा है। ई-विन यानी इलेक्ट्रॉनिक वैक्सीन इंटेलिजेंस नेटवर्क प्रणाली वैक्सीन की गुणवत्ता बनाए रखने में सबसे महत्त्वूर्ण भूमिका निभाती है। ई-विन खासतौर पर वैक्सीन वितरण के लिए बनाई गई तकनीक है। इसकी मदद से इस बात पर नजर रखी जाती है कि कितनी वैक्सीन स्टॉक में है। स्मार्टफोन पर काम करने वाली ये तकनीक साल 2015 में लॉन्च की गई थी। इससे इस बात पर ट्रैक रखा जाता है कि कि कोल्ड चेन में वैक्सीन का सही ढंग से रखरखाव हो सके और वितरण के दौरान कोई समस्या न हो। यहां बता दें कि वैक्सीन के स्टॉक को सुरक्षित रखने के लिए तापमान-नियंत्रित भंडारण की जरूरत होती है। हर टीके को रखने की एक निश्चित अवधि होती है और इस दौरान भी उसे एक खास तापमान पर रखना होता है। अगर इसमें कमी या कोई असावधानी हुई तो टीका अपना असर खो देता है।

    इस प्रणाली के एडवांस एडिशन को कोविन पोर्टल से किया जाएगा संबद्ध -

    यू एन डी पी के कार्यक्रम पदाधिकारी प्रियरंजन झा ने वर्चुअल प्रशिक्षण में सम्मिलित प्रतिभागियों को ईविन प्रणाली के एडवांस एडिशन की विस्तृत जानकारी प्रदान की। उन्होंने बताया कि कोविड - 19 टीकाकरण के मद्देनजर वैक्सीनेशन डिवीजन की अतिरिक्त जरूरतों को देखते हुए ई-विन प्रणाली में जरूरी बदलाव किए गए हैं। प्रणाली में बदलाव कर इसका एडवांस एडिशन बनाया गया है जिसे वर्तमान में क्रियान्वित किया जाना है। उन्होंने यह भी बताया कि वर्तमान मे कोविड टीकाकरण के पंजीकरण आदि के लिए उपयोग की जाने वाली को-विन पोर्टल पर भी ई-विन के एडवांस एडिशन को संबंद्द करने की योजना है। वर्चुअल प्रशिक्षण में प्रशिक्षकों के द्वारा पीपीटी के माध्यम से प्रतिभागियों को विस्तृत में बताया गया। जिले के प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ विपिन कुमार गुप्ता ने बताया कि *ई-विन (एई)  के एडवांस एडिशन* को चरणबद्ध तरीके से क्रियान्वित किया जाना है। अंत में धन्यवाद ज्ञापन के साथ प्रशिक्षण का समापन किया गया।