Mumkin hai India

  • Gallery

    स्तनपान कराने वाली महिलाएं कोविड संक्रमण से बचाव के लिए करायें टीकाकरण

    2021-07-02

    गया, 02 जूलाई: कोविड संक्रमण की रोकथाम के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा 18 वर्ष से अधिक उम्र के सभी लोगों का टीकाकरण किया जा रहा है। टीकाकरण संक्रमण की रोकथाम के लिए सशक्त माध्यम है। केंद्र सरकार ने स्तनपान करवाने वाली महिलाओं को भी वैक्सीन लेने के लिए कहा है।

    धात्री महिलाओं के लिए टीकाकरण सुरक्षित: 
    स्तनपान कराने वाली महिलाओं के कोविड टीकाकरण की जरूरत पर बल देते हुए नीति आयोग के स्वास्थ्य ईकाई के सदस्य वीके पॉल ने भी साफ किया है कि स्तनपान कराने वाली महिलाओं का आवश्यक रूप से कोविड टीकाकरण होना चाहिए। यह बिल्कुल सुरक्षित है। उन्होंने कहा है स्तनपान कराने वाली महिलाएं बच्चों को नियमित रूप से स्तनपान करायें। साथ ही कोविड संक्रमण से सुरक्षित रहने के लिए वैक्सीन भी लें। वैक्सीन लेकर वे सामान्य रूप से बच्चों को स्तनपान करा सकती हैं। उन्हें टीकाकरण कराने में किसी प्रकार की झिझक नहीं होनी चाहिए और इसके बारे में किसी को भ्रम नहीं फैलाना चाहिए।

    टीकाकरण से जुड़े अफवाहों पर नहीं दें ध्यान: 
    सूचना के आभाव में कई लोग अफवाहों का शिकार हो जाते हैं। लोगों के मन में स्तनपान कराने वाली महिलाओं के टीकाकरण को लेकर संदेह और भ्रम की स्थिति है, लेकिन प्रेस इंफॉर्मेशन ब्यूरो ने कहा है कि यदि ऐसी कोई भी सूचना या बात आप तक पहुंचती है जिसमें यह स्तनपान कराने वाली महिलाओं के कोविड टीकाकरण को असुरक्षित कहा जा रहा हो तो इसके महज अफवाह मानकर नजरअंदाज करें। स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा इस बात की पुष्टि की गयी है धात्री महिलाओं के लिए भी टीकाकरण जरूरी है जो सुरक्षित और असरदार है। 

    टीकाकरण के बाद बुखार आना सामान्य प्रक्रिया: 
    वैक्सीन लगने के बाद बुखार आना तथा इंजेक्शन लिये हुए स्थान पर दर्द रहना एक सामान्य प्रक्रिया है। बुखार आने पर परेशान नहीं हों। यह दवाई की सही तरीके से काम करने की ओर इशारा करता है। टीकाकरण के बाद शरीर में एंटीबॉडी बनने की प्रक्रिया प्रारंभ होने लगती है। यदि महिला को बुखार आता है तोभी बच्चों को स्तनपान कराया जा सकता है। साथ ही शिशु छह माह से अधिक उम्र का है तो उसे अनूपूरक आहार भी देते रहें। बच्चों को स्तनपान कराते हुए श्वसन संंबंधी स्वच्छता के नियमों का पालन जरूर करें।