Mumkin hai India

  • Gallery

    मधेपुरा: अब पोषण ट्रैकर एप से होगा जिले के आंगनबाड़ी केद्रों का अनुश्रवण

    2021-06-25

    मधेपुरा, 25 जून: जिले के सभी 2241 आंगनबाड़ी केद्रों से संबंधित सेवाओं की गुणवत्ता में सुधार व इसके अनुश्रवण की प्रक्रिया आसान बनाई जा रही है। इसको लेकर केंद्रों की सतत निगरानी व अनुश्रवण के लिये पोषण ट्रैकर एप के उपयोग का निर्णय लिया गया है। पोषण ट्रैकर नाम के इस एप के सफल क्रियान्वयन को लेकर प्रखंड व जिला स्तर पर आंगनबाड़ी सेविकाओं को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। विभागीय निर्देश के आलोक में लाभार्थियों को लाभ पहुंचाने में हो रही देरी को खत्म करने के लिए पोषण ट्रैकर मोबाइल एप के माध्यम से सभी कार्य समय पर संपन्न कराना है। प्रशिक्षण से सभी सेविकाओं को काम करने में सहूलियत होगी। उक्त बातें आईसीडीएस के डीपीओ मो. कबीर ने बताई। उन्होंने बताया कि जिले में कोरोना संक्रमण काल के समय में भी आईसीडीएस से संबंधित सेवाओं की गुणवत्ता में सुधार व आंगनबाड़ी केंद्रों के अनुश्रवण(मॉनिटरिंग) को सहज व प्रभावकारी बनाने के लिये विभागीय स्तर से लगातार प्रयास किये जा रहे हैं। इसी क्रम में आंगनबाड़ी केंद्रों की सतत निगरानी व अनुश्रवण के लिये नया मोबाइल एप्लीकेशन जारी किया गया है। पोषण ट्रैकर नाम के इस एप के उपयोग से आंगनबाड़ी केंद्रों का सतत मूल्याकंन व निगरानी आसान होगा। 

    सहज व प्रभावकारी होगा आंगनबाड़ी केंद्रों का अनुश्रवण: अंशु कुमारी
    जिले की राष्ट्रीय पोषण अभियान की जिला समन्वयक अंशु कुमारी बताती हैँ कि महिला एवं बाल विकास मंत्रयाल, भारत सरकार द्वारा विकसित, पोशन ट्रैकर एप सभी आंगनवाड़ी केंद्र, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, और लाभुकों की वास्तविक समय की निगरानी और ट्रैकिंग सक्षम बनाता है। यह सरकारी एप गर्भवती महिलाओं, स्तनपान कराने वाली माताओं, बच्चों, किशोर लड़कियों और किशोर लड़कों के लिए, आंगनबाड़ी केद्रों, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और संपूर्ण लाभार्थी प्रबंधन की गतिविधियों का 360-डिग्री दृश्य प्रदान करता है। 

    सेविकाओं को दिया जा रहा पोषण ट्रैकर एप का प्रशिक्षण: 
    आईसीडीएस के तहत शुक्रवार को मधेपुरा सदर एवं गम्हरिया प्रखंड के आंगनबाड़ी सेविकाओं को पोषण ट्रैकर एप पर लाभार्थियों का विवरण अपलोड करने का तरीका सिखाया जा रहा है। दोनों प्रखंडों में आयोजित प्रशिक्षण कार्यक्रम में सेविकाओं को आंगनबाड़ी केन्द्रों पर चलाए जा रहे पोषण कार्यक्रम के लाभार्थियों से संबंधित जानकारी को पोषण ट्रैकर एप पर अपलोड करने का प्रशिक्षण दिया गया। इस दौरान आईसीडीएस के प्रशिक्षक ने आईसीडीएस द्वारा सेविकाओं को मिले मोबाइल पर पोषण कार्यक्रम लॉगिन कर विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने गर्भवती महिलाएं, छह माह से उपर के बच्चों, तीन से छह आयु वर्ष के बच्चों तथा किशोरियों आदि के लिए संचालित पोषण कार्यक्रम के तहत अलग-अलग निबंधित लाभार्थियों के विवरण को पोषण ट्रैकर एप पर ऑनलाइन करने का तरीका बताया। इसके तहत लाभार्थियों का नाम, माता पिता का नाम, पता, उम्र, आधार संख्या, मोबाइल संख्या आदि जानकारी को ऑनलाइन दर्ज किया जाना है। उल्लेखनीय है कि सभी प्रखंडों में आंगनबाड़ी केन्द्रों की  सेविकाओं को पोषण ट्रैकर एप  के सभी मोड्यूल पर प्रशिक्षण दिया जाना है।