Mumkin hai India

  • Gallery

    मधेपुरा: सुरक्षा कवच के सामान है कोविड-19 का टीका : सिविल सर्जन

    2021-06-24

    मधेपुरा, 24 जून: कोविड टीका को लेकर लोगों का उत्साह बढ़ता जा रहा है। यही वजह है कि शहरी वार्ड हो या पंचायत हर केंद्र पर टीका लगवाने के लिए लोगों की भीड़ लग रही है। यही नहीं लोगों का कहना है कि कोविड-19 वैक्सीन कोरोना से बचाव के लिए सुरक्षा कवच के समान है। गत दिनों कोरोना वायरस व उसके संक्रमण को कम करने के लिये वैक्सीनेशन अभियान में तेजी लायी गई है। वहीं  सरकार व स्वास्थ्य विभाग अभी से कोरोना के तीसरे स्ट्रेन से लड़ने की तैयारी में जुट गया है। जिले के सिविल सर्जन डॉ अमरेन्द्र नारायण शाही कहते हैं इस वैश्विक महामारी के खिलाफ कोविड-19 का टीका हमारे लिये सुरक्षा कवच की तरह है। टीकाकरण के साथ - साथ मास्क और शारीरिक दूरी का पालन हमारे ढाल बनेंगे। जिनकी मदद से हम खुद के साथ अपने परिवार व समाज के लोगों को संक्रमण से मुक्त कर सकते हैं। 

    लोग कोविड प्रोटोकॉल के नियमों का करते रहें पालन नहीं बरतें कोताही: 
    सिविल सर्जन कहते हैं सरकार के निर्देश के बाद जिले में अनलॉक की प्रक्रिया लागू की जा रही है। जिसके कारण अब लोगों का घर से निकलने का सिलसिला शुरू हो गया है। लेकिन अभी भी कुछ लोग नियमों का पालन करने में कोताही बरत रहे हैं। जिसका नजारा बाजारों, दुकानों, बस, ऑटो व अन्य स्थानों पर देखा जा सकता है। सिविल सर्जन ने ऐसे लोगों से नियमों के पालन करने की अपील की है।

    वैक्वैक्सीन लेने के साथ-साथ नियमों का पालन करने के लिये भी किया जा रहा है प्रेरित: 
    सिविल सर्जन डॉ अमरेन्द्र नारायण शाही ने बताया, जिले में फिलहाल कोरोना वायरस के संक्रमण का प्रसार कम हुआ है, लेकिन खतरा कम नहीं हुआ है और लोगों की लापरवाही उनके लिए खतरा उत्पन्न कर सकती है। लोगों को जागरूक करने के लिये जिलास्तर से लेकर वार्ड स्तर  तक जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। जागरूकता अभियान में स्वास्थ्य विभाग के अलावा आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, जीविका की दीदियों, शहरी समूह की महिलाओं के आलावा विभिन्न धर्मो का प्रतिनिधित्व करने वाले धर्म गुरुओं आदि का सहयोग भी लिया जा रहा है। जिसमें लोगों को वैक्सीन लेने के साथ-साथ नियमों का पालन करने के लिये भी प्रेरित किया जा रहा है। 

    संक्रमण से बचाव के लिए व्यवहार परिवर्तन लाना है जरूरी: 
    सिविल सर्जन डॉ. अमरेन्द्र नारायण शाही ने कहा कोरोना की दूसरी लहर से कई लोगों ने अपनो को खोया है। इसलिए यह लोगों की भी जिम्मेदारी बनती है कि वह अपनी सोच और सामाजिक व्यवहार में परिवर्तन लायें। कोरोना वायरस से ख़ुद को सुरक्षित रखने का सबसे महत्वपूर्ण उपाय है कि साफ-सफाई का ध्यान रखना। लोग अपने हाथों को समय-समय पर साबुन और पानी से धोएं। साथ ही, अल्कोहॉल बेस्ड सैनिटाइज़र का इस्तेमाल करें। लोगों को चाहिए कि अपनी आंखों को छूने से बचें, नाक और मुंह पर भी हाथ लगाने से बचना होगा। घर से बाहर निकलते समय बिना मास्क या फेसकवर के न निकलें। बाजारों या यात्री वाहनों में भी शारीरिक दूरी बनाकर रहें।

    प्रथम डोज के बाद नियत समय पर वैक्सीन की दूसरी डोज लेना अनिवार्य:
    डॉ. अमरेन्द्र नारायण शाही ने बताया, कोरोना वायरस से बचने के लिये वैक्सीन लेना बहुत जरूरी है। फिलवक्त जिला स्वास्थ्य समिति के प्रतिरक्षण विभाग की ओर से लोगों को टीकाकृत करने के लिये वृहद् स्तर पर सत्रों का संचालन किया जा रहा है। साथ ही टीका एक्सप्रेस से विभिन्न स्थलों पर भी टीका लगाने का कार्य किया जा रहा है। जहां पर लोग वैक्सीन लेने के लिये आ रहे हैं। लोगों को लगता है कि टीके की एक डोज उन्हें कोरोना से सुरक्षित कर देगा, तो उनकी यह धारणा गलत है। संक्रमण से बचना है, तो उन्हें टीके की दूसरी डोज लेना अनिवार्य है। दूसरी डोज लेने के बाद ही किसी लाभुक के शरीर में एंटी बॉडिज का निर्माण पूरी तरह से होता है, जो उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में मदद करता है। इसलिये जिले के निर्धारित वर्ग से सभी लाभार्थी विशेषकर 45 वर्ष व उससे अधिक उम्र के लोग निर्धारित अवधि में अपने टीके की दूसरी डोज लें और दूसरों को भी प्रेरित करें।