Mumkin hai India

  • Gallery

    आगामी 27 जून से शुरू होगा 5 दिवसीय पल्स पोलियो टीकाकरण अभियान।

    2021-06-23

    मधेपुरा, 23 जून: जिला में पोलियो को जड़ से खत्म करने के लिए 27 जून से 1 जुलाई तक पांच दिवसीय पल्स पोलिया अभियान चलेगा। अभियान के दौरान जीरो से पांच साल के बच्चों को जिंदगी के दो बूंद पिलाई जाएगी। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा माइक्राप्लान तैयार किया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि राज्य स्वास्थ्य समिति के अपर कार्यपालक निदेशक अनिमेष कुमार पराशर ने इस संबंध में सभी जिले के सिविल सर्जन को दिशा निदेश जारी किया है। पत्र में टीकाकरण को लेकर लोगों में जागरूकता फैलायी जाने की बात भी कही गई है।

    टीकाकरण कर्मियों के लिए तीन लेयर सर्जिकल मास्क एवं दस्ताना का हुआ आवंटन: 
    जिले के प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ विपिन कुमार गुप्ता ने बताया कि जिले में कोरोना संक्रमण से बचाव को ध्यान में रखते हुए इस पल्स पोलियो टीकाकरण अभियान का संचालन किया जाना है। इस आशय का आदेश भी राज्य स्तर से दिया गया है। इसी क्रम में टीकाकरण अभियान में कार्य करने वाले कर्मियों को संक्रमण से बचाव के लिए राज्य स्तर से तीन लेयर का सर्जिकल मास्क एवं नॉन स्टराइल ग्लव्स भी उपलब्ध कराया जा रहा है। निर्गत किए गए आवंटन सूची के अनुसार मधेपुरा को 15370 मास्क एवम् इतनी ही संख्या में ग्लव्स उपलब्ध करवाया जाएगा। शून्य से 5 साल तक के सभी बच्चों को कोविड-19 के गाइडलाइन का अक्षरशः अनुपालन करते हुए पोलियो टीकाकरण किए जाने का निर्देश राज्य स्वास्थ्य समिति के द्वारा दिया गया है।

    पल्स पोलियो अभियान के साथ साथ जारी रहेगा कोविड -19 टीकाकरण: 
    पल्स पोलियो अभियान व कोविड टीका के लक्ष्य को शतप्रतिशत हासिल करने के लिए प्रखंड स्तर पर बैठक कर माइक्रोप्लान तैयार करने का आदेश भी दिया जा चुका है। प्रखंड स्तर पर बीडीओ की अध्यक्षता में बैठक कर अभियान के सफलतापूर्वक संचालन की रणनीति तैयार की जा रही है। विशेषकर कोरोना प्रोटोकॉल को ध्यान में रखते हुए समय से वैक्सीन का उठाव कर 0 से 5 आयु वर्ग के बच्चों को पोलियो का खुराक देने पर चर्चा बैठक में किया जाना है। विदित हो कि 27 जून से 1 जुलाई तक पल्स पोलियो अभियान का कार्यक्रम के तहत क्षेत्र के सभी घरों में परिभ्रमण कर पोलियो टीम द्वारा दवा पिलाई जाएगी। अभियान के सफलता पूर्वक आयोजन के लिए टीका कर्मी, आशा कार्यकर्ता, आंगनबाड़ी सेविका इत्यादि को प्रशिक्षित किया जा रहा है।