Mumkin hai India

  • Gallery

    तीसरी लहर: कोविड काल में बच्चों को चुंबन व हाथ मिलाने से करायें परहेज

    2021-06-23

    गया, 23 जून: कोविड 19 महामारी की तीसरी लहर का बच्चों पर होने वाले प्रभाव के मद्देनजर जिला प्रशासन तथा स्वास्थ्य विभाग द्वारा आवश्यक तैयारी की जा रही है। स्वास्थ्य विभाग ने कहा है ऐसे समय में बच्चों को घरों से बाहर आवश्यक होने पर ही ले जायें। उन्हें अधिक से अधिक घर पर ही समय बिताने की आदत दिलायें। छोटे बच्चों को अन्यत्र रिश्तेदारों व दोस्तों के यहां नहीं ले जायें। विशेषकर उस समय यह अधिक जरूरी है जब वहां का कोई सदस्य सर्दी, खांसी व बुखार या अन्य गंभीर बीमारी से पीड़ित हो। वहीं बच्चों को भीड़भाड़ वाली जगहों, सभाओं व समारोहों में ले जाने से परहेज करें। बच्चों को हाथ मिलाने अथवा चुंबन से भी परहेज करायें तथा एसएमएस के नियमों जिनमें सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क व सैनिटाइजेशन शामिल हैं का पालन करायें। बच्चों में सरदर्द, बुखार, बदन दर्द, गले में खराश, सूखा कफ, भूख की कमी, कमजोरी, दस्त, गालों व आंखों में दर्द होने पर नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र या शिशु रोग विशेषज्ञ से अवश्य सलाह लें।

    हाथों की नियमित सफाई के प्रति करें जागरूक: 
    बच्चों की साफ सफाई का ध्यान रखना जरूरी है। बच्चों को नियमित रूप से स्नान करायें। हाथों को साबुन पानी से धोने के तरीकों की जानकारी दें और ऐसा नियमित रूप से करने के प्रति जागरूक करें। बच्चों को सैनिटाइजर के इस्तेमाल की जानकारी दें। छोटे बच्चों की देखभाल के दौरान परिवार के सदस्य के हाथों को पहले धोयें अथवा सैनिटाइज करें। घरोंं व शौचालय की रोजाना सफाई करें। तकिया के खोल व चादर को नियमित बदलें।

    बच्चों के खिलौने व अन्य वस्तुओं को सैनिटाइज करें: 
    तीसरी लहर को ध्यान में रखते हुए घरों में मौजूद उपकरणों आदि की भी सफाई करें। इनमें मोबाइल फोन, खेलने की सामग्रियां, जॉय स्टिक, कंप्युटर, की—बोर्ड, बच्चों के खिलौने, धातू की अन्य सतहें जैसे दरवाजों के हैंडल व अन्य वस्तुओं आदि की सफाई करते रहें। इसके अलावा बाहरी वस्तुओं जैसे लिफ्ट के दरवाजे, सीढ़ियों की रेलिंग, पब्लिक ट्रांसपोर्ट के हैंडल या ऐसे कोई भी वस्तू जिसे अन्य व्यक्ति द्वारा स्पर्श किया जाता है, आदि के छूने के बाद हाथों को अल्कोहल युक्त सैनिटाइजर अथवा साबुन पानी से जरूर साफ करें। बच्चों को मास्क के इस्तेमाल की जानकारी दें। बच्चों को अन्य के रूमाल, तौलिया, ब्रश आदि के इस्तेमाल नहीं करने की आदत सिखायें।

    बच्चों के लिए प्रोटीन युक्त आहार की मात्रा बढ़ाएं :
    जिला वेक्टर जनित रोग नियंत्रण पदाधिकारी डॉ एमई हक ने बताया बच्चों को आहार में उच्च प्रोटीन वाले खाद्य पदार्थ शामिल करें। भोजन में अंडा, अंकुरित चना, मूंग, राजमा तथा दाल आदि को शामिल करें। प्रतिदिन उन्हें दूध दें। ताजा हरी व पत्तेदार सब्जी व विटामिन सी की प्रचूर मात्रा पाये जाने वाले मौसमी फलों का सेवन जरूर करायें। ये बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हैं। घरों में तैयार किये गये भोजन ही दें। बाहर के खाना व जंक फूड से दूर रखें। साथ ही बच्चों को प्रतिदिन आधा घंटा धूप में बैठने या खेलने के लिए कहें। विटामिन डी की पूर्ति के लिए सुबह की धूप बेहतर होती है। पीने के लिए गुनगुने पानी दें व गरारा करने के लिए कहें। 

    इन चीजों को घरों में रखें:
    •थर्मामीटर 
    •पल्स आॅक्सीमीटर 
    •मास्क 
    •सैनिटाइजर
    •साबुन 
    •दस्ताने