Mumkin hai India

  • Gallery

    पूर्णिया: कोवैक्सीन की दूसरी डोज़ लेने के लिए युवाओं की हो रही भीड़: सिविल सर्जन

    2021-06-17

    पूर्णिया, 17 जून: जिले में 18 वर्ष से लेकर 44 आयुवर्ग तक के लाभुकों को कोवैक्सीन की दूसरी डोज़ के लिए लंबे समय से इंतजार था। लेकिन सरकार द्वारा जिले को 11, 890 वैक्सीन उपलब्ध करा दी गई है । जिस कारण कोवैक्सीन की दूसरी डोज लेने के लिए युवाओं की भीड़ देखी जा रही हैं। लक्ष्य को पूरा करने के लिए कोविड-19 टीकाकरण के लिए गुरुवार को कोरोना टीकाकरण का विशेष शिविर का आयोजन किया गया। इस अभियान की सफलता के लिए जिला प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा संयुक्त रूप से सभी स्वास्थ्य कर्मियों को अलग-अलग लक्ष्य दिया गया है। विशेष टीकाकरण अभियान के लिए सभी प्रखंड के सभी पंचायतों के विभिन्न क्षेत्रों में 216 विशेष टीकाकरण केंद्र बनाए गए हैं। जहां 18 वर्ष से 44 वर्ष के सभी लोगों को कोविड-19 का टीका लगा लगाया जा रहा है। विशेष शिविर के माध्यम से बुधवार को जिले में कुल 21416 लाभुकों का टीकाकरण किया गया है। वहीं 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को भी जिले के 14 प्रखंडों में एक-एक टीका एक्सप्रेस एवं शहरी क्षेत्रों में दो टीका एक्सप्रेस के द्वारा डोर टू डोर भ्रमण कर कोविड-19 का टीका लगाया जा रहा है।


    कोवैक्सीन की दूसरी डोज़ लेने के लिए युवाओं की हो रही हैं भीड़: सिविल सर्जन 
    सिविल सर्जन डॉ एसके वर्मा ने बताया वैश्विक महामारी कोविड-19 संक्रमण को जड़ से मिटाने के लिए 18 आयुवर्ग से ऊपर के सभी तरह के लाभुकों का टीकाकरण ज़िले के सभी सरकारी स्वास्थ्य केन्द्रों के माध्यम से संचालित सत्र स्थलों पर लगातार चल रहा है। कोवैक्सीन की दूसरी डोज के लिए युवाओं का इंतजार खत्म हो गया है। क्योंकि 28 दिनों बाद कोवैक्सीन की दूसरी डोज़ लेनी थी लेकिन अब जिले को कोवैक्सीन उपलब्ध करा दी गई है। जिससे जिले के सभी टीकाकरण केंद्रों पर 18 वर्ष से 44 वर्ष तक के लाभुकों को कोवैक्सीन की दूसरी डोज़ देने का कार्य शुरू हो चुका है। जिसके लिए गुरुवार को विशेष शिविर का आयोजन सफलतापूर्वक किया गया। जिसमें लक्ष्य के अनुरूप लाभार्थियों का टीकाकरण किया गया है। सभी टीकाकरण केंद्रों पर पर्याप्त मात्रा में वैक्सीन उपलब्ध थी। स्वास्थ्य विभाग की ओर से कहा गया है कि जुलाई महीने से दिसम्बर तक 18 वर्ष से ऊपर के सभी व्यक्तियों का टीकाकरण करने के लिए मिले लक्ष्य को पूरा किया जायेगा। जिसके लिए अभी से ही हमलोगों के द्वारा टास्क दिया जा रहा है। ताकि समय से पहले ही जिला अपना लक्ष्य पूरा करे। साथ ही टीकाकरण को गति देने में स्वास्थ्य विभाग के द्वारा शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में टीका एक्सप्रेस के द्वारा घर-घर जाकर टीकाकरण किया जा रहा है।

    रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक है टीकाकरण: डीआईओ
    स्वास्थ्य विभाग द्वारा पूर्णिया जिले को कोविड-19 टीकाकरण को शत प्रतिशत लक्ष्य को पूरा करने के लिए कोवैक्सीन की 11, 890 डोज उपलब्ध करायी गयी है। जिसे 18 आयुवर्ग से लेकर 44 वर्ष तक के लाभुकों को कोवैक्सीन की दूसरी डोज दी जाएगी। ज़िले के अमौर स्वास्थ्य केंद्र को 260, बैसा को 190, बायसी को 250, बनबनखी को 410, बी कोठी को 350, भवानीपुर को 400, डगरुआ को 420, धमदाहा को 390, जलालगढ़ को 340, कसबा को 380, के नगर को 380, पूर्णिया पूर्व ग्रामीण स्वास्थ्य केंद्र को 700 तो वहीं पूर्णिया पूर्व शहरी स्वास्थ्य केंद्र को 5850 जबकिं रुपौली को 260 एवं श्रीनगर पीएचसी को 410 डोज वैक्सीन उपलब्ध करा दी गयी है। हालांकि सदर अस्पताल स्थित जिला नियंत्रण कक्ष में 900 डोज वैक्सीन सुरक्षित रखी गई है। कोविड-19 संक्रमण से बचाव व सुरक्षा के लिए टीका लगाना ही एक मात्र उपाय है। टीके लगाने से किसी को भी कोई परेशानी नहीं होती है बल्कि टीका लोगों में रोग प्रतिरोधक क्षमता की वृद्धि करने के साथ ही संक्रमण से जल्द ही उबरने में सहायक होता है। इसलिए सभी लोगों को अपने नजदीकी टीकाकरण स्थल पर कोविड-19 का टीका जरूर लगवाना चाहिए।

    दूसरी डोज लेने के बाद सुरक्षित हूं लेकिन अभी भी बचाव रखने की है जरूरत: नीतू 
    शहरी क्षेत्र के पॉलिटेक्निक टीकाकरण केंद्र पर टीका लेने आई  27 वर्षीय महिला नीतू देवी ने बताया कोविड-19 संक्रमण को ख़त्म करने के लिए पहली डोज तो मिल गयी थी लेकिन दूसरी डोज लेने के लिए बहुत ज़्यादा इंतज़ार करना पड़ा था। लेकिन दूसरी डोज लेने के बाद हम पूरी तरह से सुरक्षित हो गई हूं। हालांकि अभी भी हमलोगों को मास्क पहनना, सामाजिक दूरी का पालन करने के साथ ही अपने हाथों को समय-समय पर सैनिटाइजर से धोते रहना है। क्योंकि थोड़ी सी लापरवाही होने पर संक्रमित होने की संभावना बढ़ जाएगी। विशेष टीकाकरण अभियान में जिले के युवाओं द्वारा बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया गया। जिले में ज्यादा से ज्यादा लोगों को टीका लगाया जा सके इसके लिए विभिन्न टीकाकरण स्थल बनाये गए थे जहां ऑनलाइन के साथ ही ऑफलाइन पंजीकरण की सुविधा उपलब्ध है। युवाओं ने इसका भरपूर लाभ उठाते हुए अपने नजदीकी टीकाकरण स्थल पर टीका लगाया।