Mumkin hai India

  • Gallery

    किशनगंज: संक्रमण रोग के लक्षण दिखे तो घबराये नहीं: सिविल सर्जन

    2021-06-10

    किशनगंज 10 जून: कोरोना संक्रमण ने आम लोगों को सरकारी स्वास्थ्य संस्थानों का महत्व काफी हद तक समझा दिया है। पहले ग्रामीणों को कोरोना जांच और अन्य बीमारियों के इलाज के लिए लंबी दूरी तय पड़ती परती थी। पहली लहर में संक्रमण से काफी हद तक दूर रहे गांव भी इस लहर में संक्रमण की चंगुल में आ गए हैं। शहर की ही तरह गांवों में भी संक्रमण का प्रसार हुआ हैं। जिले के दर्जनों गांवों में कोरोना ने दस्तक दी है। कई गांव में रिकार्ड संक्रमित पाए गए। कई की मौत भी हुई। बावजूद इस लहर में कोरोना जांच का दायरा सिमटा है। इसी आलोक में जिले के स्वास्थ्य विभाग ने संक्रमण के बाद हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर व अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पुनः चालू करने के मकसद से चिकित्सक, प्रतिनियुक्त कर दिया है। जिले में 12 हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर स्वीकृत हैं, जिसमें 10 कार्यरत हैं। कोरोना संक्रमण काल में सरकारी निर्देश के तहत अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में संचालित कार्यक्रम को स्थगित कर चिकित्सकों व स्वास्थ्य कर्मियों को मुख्यालय में प्रतिनियुक्त किया गया था। जिसका असर अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र से जुड़े हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर पर भी पड़ा। किन्तु उसे पुनः चालू किया जा रहा है।

    जिले में कुल 10 हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर कार्यरत: सिविल सर्जन
    सिविल सर्जन डॉ श्री नंदन ने बताया कि जिले में कुल 10 अतरिक्त  प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र को हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर के रूप में स्वीकृत किया गया है जिसमें अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र महीन गांव, अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र मेहरगंज, अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र तरणी, अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र दामलबाड़ी, अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पदमपुर, अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र लक्ष्मीपुर, अतिरिक्त  प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र हल्दिखोड़ा, अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द अलता, अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पोवाखाली, अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र धवेली को पुनः संचालित करने हेतु हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर पर चिकित्सक की तैनाती की गयी है। तथा वहाँ एसबीए प्रशिक्षित एएनएम की पदस्थापन करते हुए यथाशीघ्र हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर में व्यवस्था दुरुस्त की जाएगी। साथ ही 24 घंटे क्रियाशील कर स्वास्थ्य सुविधा के साथ-साथ प्रसव सुविधा उपलब्ध कराया जाना है। 

    डाटा मैनेजमेंट यूनिट की स्थापना एवं संचालन: सिविल सर्जन
    सिविल सर्जन डॉ श्री नंदन ने बताया की राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक मनोज कुमार के द्वारा पत्र के आलोक में जिले के 10 अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र जहां हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर क्रियाशील हैं,  उनके लिए डाटा सेंटर स्थापित करने का आदेश दिया गया था। वहीं क्रियाशील केंद्रों में डाटा सेंटर स्थापना हेतु कंप्यूटर ऑपरेटर की तैनाती की गई है। जिले डाटा मैनेजमेंट यूनिट की स्थापना एवं संचालन संबंधी निर्गत आदेश के आलोक में कुल 10 डाटा ऑपरेटर की प्रतिनियुक्त कर उनको प्रशिक्षण आज जिला स्वास्थ्य समिति के प्रांगन में झापाईगो के सहयोग से दिया गया है। डाटा इंट्री ऑपरेटर को अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र सह हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर में कंप्यूटर संबंधी कार्यों के सुचारू रूप से संचालन हेतु प्रतिनियुक्त किया गया है।

     

    संक्रमण रोग के लक्षण दिखें तो घबराये नहीं: सीएस 
    सिविल सर्जन डॉ श्री नंदन ने बताया अपनी सेहत पर तनिक भी संदेह होने पर सबसे पहले आप खुद को दूसरों से पूरी तरह अलग-थलग कर लें। संक्रमण के तेज प्रसार को रोकने के लिहाज से यह जरूरी है। प्राथमिकता के आधार पर अपनी जांच करायें। रिपोर्ट आने की प्रतीक्षा किये बगैर खुद को आइसोलेट कर लें। नहीं तो रिपोर्ट आने तक आप कई लोगों के बीच बीमारी बांट चुके होंगे। जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आने व होम आइसोलेशन रहने के दौरान आपको समय-समय पर शरीर का तापमान, ऑक्सीजन का स्तर नापते रहना होगा। चिकित्सकीय परामर्श से जरूरी दवाओं का सेवन नियमित रूप से करें। जरूरी चिकित्सकीय सलाह व किसी तरह की मदद के लिये आप जिला स्तरीय नियंत्रण कक्ष के टॉल फ्री नंबर 18003456621 या 06456227222 पर संपर्क कर सकते हैं। आप जहां भी हो दूसरे व्यक्ति से कम से कम छह फीट की दूरी बनाये रखें। किसी से अपना खाने का बर्तन, कपड़ा, मोबाइल आदि का इस्तेमाल नहीं करने दें। अगर आपके कमरे में किसी और का रहना मजबूरी है। कमरा को पूरी तरह हवादार बनाये रखने का प्रयास करें। 

     

    इन मानकों का करें पालन, कोविड-19 संक्रमण से रहें दूर रहें: 
    मास्क का उपयोग और शारीरिक दूरी का पालन जारी रखें।
    लक्षण महसूस होने पर कोविड-19 जाँच कराएं।
    जरूरी नहीं हर सर्दी-खांसी कोरोना ही है, इसलिए, निर्भीक होकर सकारात्मक सोच के साथ कराएं जाँच।अधिक जरूरी पड़ने पर ही घर से बाहर निकलें ।
    घर में सकारात्मक माहौल बनाएं और रचनात्मकता कार्य करें। 
    साफ-सफाई का विशेष ख्याल रखें और लगातार साबुन या अल्कोहल युक्त पदार्थों से हाथ धोएं।