Mumkin hai India

  • Gallery

    किशनगंज: हिट एप के माध्यम से होम आइसोलेशन के मरीजों को इलाज की मिल रही बेहतर सुविधा

    2021-06-04

    किशनगंज 04 जून: जिले में संक्रमण की स्थिति में काफी सुधार हो रहा है। यह टीकाकरण एवं लोगों की जागरूकता से ही संभव हो पाया है। कोरोना संक्रमण से लोगों के बचाव को लेकर लगाए जा रहे कोविड-19 के टीके को लेकर अभी भी लोगों के मन में थोड़ी बहुत असमंजस की स्थिति देखी जा सकती है। लोगों के भ्रम को खत्म करने और टीकाकरण को लेकर लोगों को प्रेरित करने के लिए शुरू से ही स्वास्थ्य विभाग के साथ जिला प्रशासन द्वारा समय-समय पर लोगों को जागरूक किया जाता रहा है। उसके बाद से टीकाकरण को लेकर जिले में तेजी देखी गई। कोरोना की चेन खत्म करने में स्वास्थ्य विभाग हर स्तर पर लगा हुआ है। जिले में जांच से लेकर टीकाकरण अभियान को लगातार तेज किया जा रहा है। इसमें कामयाबी भी मिल रही है। दूसरी लहर में कोरोना मरीजों की संख्या लगातार कम होती जा रही है।जिले में कुल 418 व्यक्ति संक्रमित हैं। जिसमें 38 व्यक्ति अस्पताल में भर्ती हैं तथा 380 व्यक्ति होम आइसोलसन में हैं। वहीं दूसरी ओर एक्टिव मरीजों की बेहतर तरीके से देखभाल में हिट एप वरदान साबित हो रहा है। जबसे हिट एप के जरिये कोरोना मरीजों की ट्रैकिंग शुरू हुई है, तब से होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीजों का और बेहतर तरीके से इलाज हो रहा है और वह जल्द स्वस्थ हो जा रहे हैं।

    हिट एप के जरिये मरीजों की ट्रैकिंग कर ऑक्सीजन लेवल मापा जाता है:
    सिविल सर्जन डॉ श्री नंदन कहते हैं कि उनके यहां तो पहले से ही कोरोना मरीजों का बेहतर तरीके से इलाज चल रहा है। हां, हिट एप से ट्रैकिंग के बाद यह सुविधा जरूर मिली है कि मरीजों के बारे में लगातार अपडेट मिल जा रहा है। इससे यह फायदा हो रहा है कि अगर जरा सी मरीजों की हालत बिगड़ती है तो उसे तत्काल इलाज की सुविधा मुहैया करा दी जाती है। इससे मरीजों को भी सहूलियत मिली है और स्वास्थ्यकर्मियों को भी। मालूम हो कि हिट एप के जरिये मरीजों की ट्रैकिंग कर ऑक्सीजन लेवल मापा जाता है। अगर ऑक्सीजन का लेवल 94 से कम रहता है तो उसे भर्ती होने की सलाह दी जाती है। इसके अलावा मरीजों के स्वास्थ्य की स्थिति का आकलन कर उसे हिट एप पर अपलोड किया जाता है। जिस पर जिला प्रशासन से लेकर मुख्यमंत्री कार्यालय तक की नजर रहती है।

    जिले में अभी 418 एक्टिव केसः 
    जिले में अभी कोरोना के 418 एक्टिव केस हैं। सभी की बेहतर तरीके से देखभाल हो रही है। स्वास्थ्यकर्मी मरीजों के घर-घर जाकर ऑक्सीजन लेवल जांच कर रहे हैं। साथ ही अन्य परेशानी को भी नोट किया जा रहा है। इस दौरान स्वास्थ्यकर्मियों से मरीज अपनी परेशानी भी बता रहे हैं और परेशानी का तत्काल समाधान भी किया जा रहा है। मरीजों को इससे यह फायदा मिल रहा है कि उन्हें किसी भी तरह की तकलीफ होने पर स्वास्थ्य विभाग को न ही फोन करना पड़ रहा है और सामान्य परिस्थिति में न ही इलाज के लिए अस्पताल जाना पड़ा है।

    संक्रमण को हराने में आम लोगों की अहम भूमिका: सीविल सर्जन
    सिविल सर्जन डॉ श्री नंदन ने बताया  राज्य सरकार के आदेश से जिले में कोरोना के बढ़ते संक्रमण को रोकने के लिए एक बार फिर से लॉकडाउन कि अवधि को 08 जून तक कर दिया गया है। ताकि उस समय तक जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या कम से कम हो सके। इसको ध्यान में रखते हुए जिले के सभी लोगों से अपील है कि सभी जिले वासी अनावश्यक अपने घरों से निकलने से परहेज बरतें। यदि किसी अनिवार्य कार्य से घर से बाहर निकलना जरूरी हो तो  कोरोना गाइड लाइन का पूरी तरह से पालन करते हुए अपने- अपने घरों से बाहर निकलें। घर से बाहर निकलने की स्थिति में अनिवार्य रूप से मास्क का इस्तेमाल करें। साथ ही सामाजिक दूरी के नियम के तहत एक- दूसरे से कम से कम दो गज या छह फीट की दूरी बरतें। इसके  अलावा सभी लोग अपने हाथों की नियमित साफ-सफाई के लिए साबुन या हैंड सैनिटाइजर का नियमित इस्तेमाल करें तभी कोरोना वायरस को पूरी तरीके से खत्म किया जा सकता है। जिले वासियों से अपील करते हुए उन्होंने कहा  सभी लोग देश और समाज के प्रति अपनी जिम्मेदारी को समझते हुए लॉकडॉउन के दौरान खुद भी कोरोना गाइड लाइन का पालन करें और दूसरों को भी इसके लिए प्रेरित करें। सभी लोग इस अवधि के दौरान घरों से बाहर न निकलकर अपने परिवार के साथ अपना कीमती वक्त गुजारें ताकि इस विभीषिका के वक्त पूरे परिवार को एक- दूसरे का साथ मिल सके और सभी लोग सामूहिक प्रयास से कोरोना संक्रमण से बचे रह सकें।

    कोविड टीका की दोनों डोज अवश्य लें: सीएस
    सिविल सर्जन डॉ श्री नंदन ने कहा कि संक्रमण से बचने के लिए टीका काफी कारगर है। टीका लगने के बाद शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित होती है जो कोरोना संक्रमण से लड़ने में अहम भूमिका निभाती है। टीका को लेकर भ्रमित ना हो क्योंकि यह संक्रमण से बचाव के लिए ही बनाया गया है। इसका कोई नकारात्मक प्रभाव भी नहीं है। उन्होंने कहा कि जिले में कुछ ऐसे सुदूरवर्ती इलाका है जहाँ कि लोग टीकाकरण केंद्र पर नहीं पहुंच पा रहे थे। उनके लिए टीकाकरण एक्सप्रेस वाहन चलाया गया है जिले में अभी तक 113086 व्यक्ति को प्रथम डोज एवं 28780 व्यक्ति को दूसरी डोज दी जा चुकी है तथा 45+ आयुवर्ग का टीकाकरण जारी है।