Mumkin hai India

  • Gallery

    महर्षि लॉ स्कूल, नोएडा द्वारा "मूट मेमोरियल कैसे बनाएं" विषय पर वर्कशॉप का आयोजन

    2021-05-30

    लखनऊ: महर्षि लॉ स्कूल के द्वारा आज दिनांक 29 मई, 2021 को "मूट मेमोरियल कैसे बनाएं" विषय पर वर्कशॉप  का आयोजन का आयोजन। इस कार्यक्रम के दौरान डॉ के.बी. अस्थाना, डीन, महर्षि लॉ स्कूल,  ने कहा कि विद्यार्थियों के अनुरोध पर तथा नए विद्यार्थियों के लिए मूट कोर्ट में भाग लेना तथा उनकी बारीकियों को सीखना एक कला है तथा यही कला विद्यार्थियों के पास आउट होने के बाद न्यायालयों में वह बिना किसी सपोर्ट के अपना काम कर सकते हैं। अतः इस तरह के वर्कशॉप का आयोजन आगे भी होता रहेगा। कार्यक्रम की शुरुआत कार्यक्रम के एंकर ईशा बलूनी ने किया तथा स्वागत भाषण श्री पद्मेश कटारिया ने किया। कार्यक्रम मुख्य वक्ता मिस विदुषी भारद्वाज अधिवक्ता दिल्ली हाई कोर्ट जिन्होंने के अपने पढ़ाई के दौरान ही बहुत सारे नेशनल मूट कोर्ट कंपटीशन जीते और कोर्स में गोल्ड मेडलिस्ट होने की वजह से उन्होंने एक नया मुकाम हासिल किया।

    मिस विदुषी ने मूट मेमोरियल कैसे बनाएं उसमें किन-किन बातों का ध्यान रखें तथा प्रतियोगिता में अपनी बात कैसे रखें के ऊपर विस्तृत जानकारी वर्कशॉप के द्वारा दी।  अपनी बात को बहुत ही प्रभावी ढंग से तथा सहज रूप से समझाया और कानून के विद्यार्थियों तथा शिक्षकों ने उनकी बात को बड़े ही ध्यान पूर्वक सुना। कार्यक्रम के अंत में प्रश्न और उत्तर का भी समय रखा गया। विधि के विद्यार्थी अनिल निमेष, संजय चावरे, आदि ने अपने अपने प्रश्न रखें और उसका उत्तर प्राप्त किया। कार्यक्रम के अंत में डॉ अनु बहल, डिप्टी डीन, महर्षि लॉ स्कूल ने इस प्रकार कि वर्कशॉप का स्वागत किया। मि गौरव धवन, असिस्टेंट प्रोफेसर ने कार्यक्रम का समापन अपने धन्यवाद भाषण से किया।  इस कार्यक्रम का संचालन हर्षित किरण, स्टूडेंट कन्वेनर, रिचा जायसवाल उप कनवीनर आशीष चौधरी, सेक्रेटरी तथा ईशा बलोनी ज्यॉइंट सेक्रेटरी तथा विवेक यादव कोऑर्डिनेटर मूट कोर्ट सोसायटी की पूरी टीम ने किया तथा टेक्निकल सपोर्ट श्री राज और अनिकेत का रहा। यूनिवर्सिटी के अाई टी प्रभाग के श्री शिव कुमार तथा श्री जावेद कि भूमिका सराहनीय रही। इस अवसर पर महर्षि लॉ स्कूल के फैकेल्टी मेंबर्स डॉ पूजा श्रीवास्तव, श्री पद्मेश कटारिया, मिस आकांक्षा यादव, मिस अंतिमा महाजन, मिस राखी त्यागी, श्री गौरव धवन आदि मौजूद थे तथा विधि के सभी विद्यार्थी मौजूद थे।