Mumkin hai India

  • Gallery

    निःशक्त व्यक्तियों के लिए ज़िला प्रशासन द्वारा संचालित सामुदायिक किचन सहारा हो रहा है साबित

    2021-05-29

    किशनगंज, 29 मई: कोविड-19 संक्रमण को पूरी तरह जड़ से मिटाने एवं लोगों को इस महामारी से स्थाई निजात दिलाने के जिले में लगातार वैक्सीनेशन एवं जाँच अभियान चल रहा है। जिसे और तेज गति देने के लिए जिला प्रशासन से लेकर स्वास्थ्य विभाग बेहद गंभीर है और इसको लेकर हर जरूरी कदम भी उठाये जा रहे हैं। इसी दिशा में 18 – 44 आयुवर्ग टीकाकरण केंद्र आंबेडकर टाउन हॉल का जिलाधिकारी डॉ आदित्य प्रकाश के द्वारा निरीक्षण किया गया। जहां उन्होंने देखा कि सुबह से ही जिले के युवा  कोविड वैक्सीन की पहली डोज ले रहे थे। जिले में पूर्व से 45 या उससे अधिक आयुवर्ग के लोगों का टीकाकरण  टीका एक्सप्रेस एवं कई टीकाकरण सत्र स्थलों पर पहले की तरह जारी है। आज तक जिले में 105213 व्यक्ति को प्रथम तथा 28580 व्यक्ति को दूसरा डोज दिया गया है जिसमे कुल 19600 व्यक्ति जो 18 से 44 वर्ष के आयुवर्ग का टीकाकरण किया गया है। वही 4.82 लोगो की कोरोना जांच की गयी है जिसमे 9581व्यक्ति संक्रमित पाए गए है जिसमे 8825 व्यक्ति संक्रमण को हराकर ठीक भी हुए हैं। जिले रिकवरी दर में काफी सुधार हुआ है जो  92.1% है तथा संक्रमण दर घटा है जो कि 2.0 % है।
     

    गरीब, निर्धन, निःसहाय एवं निःशक्त व्यक्तियों के लिए ज़िला प्रशासन द्वारा संचालित सामुदायिक किचन बड़ा सहारा साबित हो रहा है
    जिलाधिकारी ने टीकाकरण केंद्र के साथ आश्रय स्थल में चल रहे सामुदायिक रसोई का भी निरीक्षण किया और  कहा सरकार के निर्देश पर "पूर्ण बंद" के दरम्यान बेघर,  लाचार समेत अन्य जरूरतमंदों को मुफ्त में दो समय (दिन और रात) का भोजन मुहैया कराए जाने के लिए सामुदायिक रसोई की व्यवस्था की गई है। इसमें सदर अस्पताल में भर्ती मरीज के परिजन भी भोजन कर सकते हैं। उन्होंने स्वादिष्ट भोजन परोसे जाने की जानकारी देते हुए कहा कि सम्बंधित जन निर्धारित स्थान पर पहुंच कर बेझिझक इसका लाभ लें। जिलाधिकारी ने बताया सामुदायिक रसोई में भोजन, साफ-सफाई की पूरी व्यवस्था है। वहीँ सम्बंधित अधिकारियों को जरूरी निर्देश देते हुए उन्होंने भोजन कर रहे लोगों से पूछताछ की और खाना के सम्बंध में जरूरी जानकारी ली। उन्होंने इसी कड़ी में लाभुकों से भोजन की गुणवत्ता एवं स्वाद की जानकारी ली और व्यवस्था पर संतोष प्रकट किया। जिलाधिकारी ने कहा कि जिला प्रशासन आम जनता की सेवा और सुरक्षा के लिए कटिबद्ध है। सामुदायिक रसोई में प्रतिदिन एवं रात के भोजन की व्यवस्था की जा रही है। इसके संचालन में बिजली, पेयजल, साफ-सफाई, हैंडवॉश, सैनिटाइजर आदि की पर्याप्त व्यवस्था के साथ-साथ शारीरिक दूरी एवं अन्य कोविड-19 सुरक्षा मानकों का ध्यान रखा जा रहा है। आश्रय स्थल में संचालित सामूहिक रसोई पर निबंधन पंजी एवं निरीक्षण पंजी संधारित रहेगा। निबंधन पंजी में खाने वाले सभी व्यक्तियों के नाम, तिथि एवं समय अंकित किया जाएगा। निरीक्षण पंजी में रसोई के जांच हेतु गए पदाधिकारी अपना मंतव्य अंकित करेंगे। वर्तमान में जिला के सभी  प्रखण्डों सामुदायिक किचन संचालित है। जहाँ निर्धन, नि:सहाय परिवार के वैसे व्यक्ति जिनका लॉकडाउन या किसी अन्य कारणों से रोजगार छीन गया है उन परिवारों के सदस्यों को दिन एवं रात गुणवत्तापूर्ण भोजन मुहैया कराया जा रहा है। 

    जिलाधिकारी ने लोगों से प्रतिबंधों का अक्षरशः पालन करने का किया अनुरोध: जिलाधिकारी 
    जिला पदाधिकारी डॉ आदित्य प्रकाश ने जिलेवासियों से जिला प्रशासन द्वारा लगाये गये प्रतिबंधों का अक्षरशः पालन करने का अनुरोध किया। उन्होंने कहा यह प्रतिबंध आपको कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए लगाये गये हैं। आवश्यक होने पर ही घर से बाहर दोहरा मास्क लगाकर निकलें। बाहर निकलने की स्थिति में संयम बरतें एवं भी़ड़-भाड़ से बचें। याद रखें आप अपनी आवश्यकता का सामान लेने निकलें है न कि कोरोना से संक्रमित होने। आपके द्वारा बरती गई लापरवाही आप पर ही नहीं बल्कि आपके परिवार के अन्य सदस्यों पर भी भारी पड़ेगी। यदि आप परिवार के ऐसे सदस्य हैं जो किसी अन्य रोग से ग्रसित हैं तो बाहर न निकलें और अनावश्यक भीड़-भाड़ से बचें।

    कोरोना के शुरुआती लक्षण दिखते ही करायें अपना कोविड टेस्ट: डीएम 
    जिला पदाधिकारी डॉ आदित्य प्रकाश ने जिले वासियों से अनुरोध किया कि यदि किसी को कोरोना के शुरुआती  लक्षण जैसे- सर्दी, खांसी, बुखार, स्वाद एवं सुगंध कम लगना, अत्यधिक थकान एवं कमजोरी आदि हो तो यथाशीघ्र अपने निकटतम सरकारी स्वास्थ्य केन्द्र पर जाकर अपना कोविड टेस्ट अवश्य करवायें, ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि ये लक्षण आपमें कोरोना के हैं अथवा नहीं। ताकि समय रहते आपको उचित चिकित्सीय सुविधा प्रदान करते हुए बचाया जा सके। देर होने पर समस्या की गंभीरता बढ़ सकती है।


    कोरोना काल में  इन उचित व्यवहारों का करें पालन
    - एल्कोहल आधारित सैनिटाइजर का प्रयोग करें।
    - सार्वजनिक जगहों पर हमेशा फेस कवर या मास्क पहनें।
    - अपने हाथ को साबुन व पानी से लगातार धोएं।
    - आंख, नाक और मुंह को छूने से बचें।
    - छींकते या खांसते वक्त मुंह को रूमाल से ढकें।