Mumkin hai India

  • Gallery

    किशनगंज जिले में टीका रथ से 45 साल से ऊपर के 344 व्यक्ति का हुआ टीकाकरण

    2021-05-28

    किशनगंज, 28 मई:कोविड-19 संक्रमण को पूरी तरह जड़ से मिटाने एवं लोगों को इस महामारी से स्थाई निजात दिलाने के जिले में लगातार वैक्सीनेशन एवं जाँच अभियान चल रहा है। जिसे और तेज गति देने के लिए जिला प्रशासन से लेकर स्वास्थ्य विभाग बेहद गंभीर है। इसको लेकर हर जरूरी कदम भी उठाये जा रहे हैं। ताकि जल्द से जल्द शत-प्रतिशत लोगों का वैक्सीनेशन हो सके और लोग खुद को सुरक्षित महसूस कर सकें। जिले में टीका एक्सप्रेस के द्वारा 45 वर्ष से ऊपर आयुवर्ग के लोगों की कोरोना जांच, टीकाकरण के साथ ही जागरूकता लाने के कार्य किये जा रहे हैं। जिसमे अभी तक 344 व्यक्ति का टीकाकरण किया गया है। वर्तमान में जिले के 104140 व्यक्ति को प्रथम डोज तथा 28557 व्यक्तिओ को टीका का दूसरा डोज दिया जा चुका है। वही 18 से 44 आयुवर्ग के 18653 युवा का टीकाकरण किया गया है।

    महादलित व बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों में टीका एक्सप्रेस से किया जा रहा जागरूक: 
    सिविल सर्जन डॉ श्री नंदन ने बताया कि टीका की पर्याप्त मात्रा में उपलब्धता के साथ कोविड19 का टीकाकरण किया जा रहा है। जिसमें स्वास्थ्य केन्दों के साथ साथ प्रखण्ड के महादलित व बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों में घर घर घूमकर लोगों को जागरूक किया जा रहा है। उनके मन की भ्रांतियों को दूर किया जा रहा है। उसके बाद आधार कार्ड देखकर लाभार्थी को ए एन एम द्वारा टीका दिया जा रहा है। टीकाकरण केन्द्र पर कोरोना प्रोटोकॉल के पालन के साथ टीकाकरण हो रहा है। वहीं टीकाकरण में आए सभी लोगों को मास्क लगाने, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने, समय-समय पर हाथों को साबुन से या सैनिटाइजर से साफ करते रहने के साथ बेवजह घरों से न निकलने की बातें बताई जाती हैं। टीकाकरण के 1 दिन पूर्व गांव में जागरूकता अभियान चलाकर लोगों को जागरूक किया जाए। उसके बाद व्हाट्सएप ग्रुप के माध्यम से सभी विभाग टीकाकरण कार्य के 1 दिन पूर्व सूची भेजना सुनिश्चित करें। ताकि आरबीएसके टीम जब टीकाकरण के लिए पहुंचे तो वहां के ग्रामीणों को पता हो और टीकाकरण का लक्ष्य हासिल हो सके। जिस दिन जहां टीकाकरण किया जाता वहां की आशा, जीविका तथा आंगनबाड़ी सहायिका चलंत टीका एक्सप्रेस को टीकाकरण में सहायता कर रही हैं।


    कोरोना से बचने के लिए टीकाकरण बेहद आवश्यक: सिविल सर्जन
    सिविल सर्जन डॉ श्री नंदन ने बताया संक्रमण से उबरने का एकमात्र उपाय टीकाकरण है। जिससे लोग सुरक्षित हो रहे हैं। टीकाकरण बेहद सुरक्षित एवम प्रभावी है । जिले में टीके की उपलब्धता के साथ 18 वर्ष से ऊपर एवम 45 वर्ष से ऊपर के सभी लाभार्थियों का टीकाकरण किया जा रहा है। टीकाकरण के बारे में वैज्ञानिक अनुसंधान में अब यह बात सामने आ रही है कि जिन लोगों ने कोविड-19 का दोनों डोज लिया है और अगर वो कहीं से भी कोरोना से संक्रमित हो भी जाते हैं तो स्वस्थ होने में उन्हें अधिक समय नहीं लगता है। इसलिए उन्होंने सभी लोगों से टीके लगवाने की अपील करते हुए कहा कि बाढ़ आने के पूर्व सभी अस्पतालों के चिकित्सा पदाधिकारियों व स्वास्थ्य कर्मी निश्चित रूप से बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों के साथ दलित, महादलित व दुर्गम क्षेत्रों के लोगों के टीकाकरण के लक्ष्य को प्राप्त करें।


    आरटीपीसीआर एवं एंटीजन टेस्ट भी किया जा रहा और जगह जगह माइक्रो कंटेन्मेंट जोन बनाये गए: 
    सिविल सर्जन डॉ श्री नंदन ने बताया जिले में जगह -जगह जाँच एवं टीकाकरण के साथ मास्क पहनने व कोरोना से बचने के लिए जागरूकता फैलायी जा रही है। कोरोना के मरीज मिलने पर जांच करने के बाद उन्हें होम क्वारंटाइन किया जा रहा है। वहीं गंभीर स्थिति में महेश्बथाना स्थित कोविड केयर में आइसोलेशन वार्ड में मरीजों का इलाज किया जा रहा है। आपातकालीन स्थिति में मरीजों को मधेपुरा रेफर भी किया जा रहा है।  आरटी पीसीआर जांच एवं एंटीजन टेस्ट बढ़ाने पर भी विचार किया जा रहा है। जब तक सभी लोगों का टीकाकरण नहीं हो जाता कोरोना काल में सावधानी बरतने की जरूरत है।

    कोरोना काल में इन उचित व्यवहारों का करें पालन: 
    - एल्कोहल आधारित सैनिटाइजर का प्रयोग करें।
    - सार्वजनिक जगहों पर हमेशा फेस कवर या मास्क पहनें।
    - अपने हाथ को साबुन व पानी से लगातार धोएं।
    - आंख, नाक और मुंह को छूने से बचें।
    - छींकते या खांसते वक्त मुंह को रूमाल से ढकें।