Mumkin hai India

  • Gallery

    सरकारी दिशा-निर्देशों का सही से अनुपालन कर कोविड-19 संक्रमण को करें समाप्त

    2021-05-24

    पूर्णिया, 24 मई: वैश्विक महामारी कोरोना वायरस शहरों के बाद अब ग्रामीण क्षेत्रों में भी अपना पांव पसार रहा है। राज्य में बाहर रहने वाले मेहनतकश मजदूर अपनी रोजगार को छोड़ अपने गांव वापस लौट रहे हैं। लेकिन लोगों द्वारा संक्रमण से बचाव के लिए जारी दिशा-निर्देशों का सही से अनुपालन नहीं करने से ग्रामीण क्षेत्रों में भी संक्रमण की संख्या में वृद्धि देखी जा रही है। इसे रोकने और कोविड-19 संक्रमण को जड़ से समाप्त करने के लिए लोगों को सावधान रहकर सभी सरकारी निर्देशों का पूरी तरह पालन करना चाहिए। तभी हम कोविड-19 से उबर सकते हैं।

    कोरोना वायरस नहीं देखता अमीर-गरीब, ऊंच-नीच का अंतर :
    अपर मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. वी.पी. अग्रवाल ने बताया कोविड-19 संक्रमण का शिकार किसी भी वर्ग के लोग हो सकते हैं।  कोविड-19 संक्रमण अमीर-गरीब, ऊंच-नीच में अंतर नहीं देखता है। अगर आप बचाव सम्बन्धी सावधानी में जरा सा भी लापरवाही बरतते हैं तो आप कोरोना संक्रमण का शिकार हो सकते हैं। अगर किसी व्यक्ति को यह लगता है कि वह बेहद स्वस्थ है, और आज तक उसे कोई रोग नहीं हुआ हैं तो इस कोरोना काल में वह इस भ्रम में ना रहे। क्योंकि अभी तक किसी भी विश्वसनीय स्रोतों से इस बात की पुष्टि नहीं हुई है कि जो लोग बहुत ही ज़्यादा स्वस्थ हैं तो उन्हें कोरोना वायरस का संक्रमण नहीं होगा। हां इसका दूसरा पहलू यह जरूर है कि आप शारीरिक तौर पर स्वस्थ रहे हैं तो इस संक्रमण के प्रभाव में जल्द नहीं आएंगे। लेकिन ध्यान रखें अगर आप संक्रमण के शिकार हो गए तो इससे न केवल आप बल्कि आपका पूरा परिवार और समाज भी इसकी जद में आ सकता है। इसलिए आपके स्वयं में सावधानी पूरे समाज को संक्रमण का शिकार होने से सुरक्षित रख सकता है।

    कोविड-19 टीकाकरण के बाद भी सतर्क रहने की जरूरत :
    अपर मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. वी.पी. अग्रवाल ने कहा आम लोगों में यह धारणा देखी जा रही है कि कोविड-19 टीका लेने के बाद लोग संक्रमण से सुरक्षित हो गए हैं जो बिल्कुल गलत है। कोविड-19 टीकाकरण आपके रोग प्रतिरोधक क्षमता के विकास में सहायक होता है जो लोगों को संक्रमण से जल्द उबरने में मददगार है। लोगों को कोविड-19 से सुरक्षित रहने के लिए टीकाकरण के दोनों डोज लेने के बाद भी पूरी सावधानी बरतनी चाहिए। पूरी तरह मास्क का उपयोग जो आपके नाक-मुँह को अच्छी तरह ढक कर रखें, अनावश्यक चीजों को छूने से परहेज करना, बिना वजह बाहर नहीं निकलना, हाथों को साबुन-पानी या सैनिटाइजर से साफ करना इत्यादि आपको संक्रमण से दूर रहने के लिए आवश्यक साबित होगा।

    शुद्ध ताज़े पानी या हल्का गर्म पानी का करें सेवन:
    डब्ल्यूएचओ की ओर से जारी दिशा-निर्देशों के अनुसार कोरोना संक्रमण काल के दौरान ताज़े भोजन में पौष्टिक आहार, शुद्ध पेयजल या हल्का गर्म पानी, सलाद लेना चाहिए | वहीं खाना बनाने से पहले और बनाने के दौरान अपने हाथों को धोते रहें। साथ ही फल और सब्जियों को कच्चा खाने से पहले आवश्यक रूप से धो लें| यहां अनदेखी न करें, आपकी अपनी जिंदगी हैं तो बेहद सावधानी पूर्वक अपने घरों में रहें।

    संक्रमण से बचाव के लिए ध्यान रखें :
     -बेवजह सड़कों पर घूमने का ख्याल दिल से निकलना।
     -मुझे नहीं होगा इस सोच को बदलना।
    -सार्वजनिक स्थलों पर दोस्तों के साथ सैर -सपाटा नहीं करें।
    -परिजनों से मिलने के दौरान शारीरिक दूरी का ध्यान रखें।
    -अतिआवश्यक सामानों की खरीददारी के लिए बाजारों में सामाजिक दूरी का पालन करें।
    -ख़रीदे हुए सामानों को पानी से रगड़-रगड़ कर धोएं उसके बाद ही करें उसका उपयोग।
    -घर से निकलने के दौरान मास्क और सैनिटाइजर का करें उपयोग।
    -मास्क पहनते समय नाक व मुंह अच्छी तरह ढंके।
    -ज्यादा इस्तेमाल होने वाले सतहों जैसे दरवाजे का हैंडल या ऐसी अन्य जगहों की नियमित सफाई करें।
    - सड़कों या सार्वजनिक जगहों पर यत्र तत्र नहीं थूके।
    -बिना किसी उद्देश्य या औचित्य के यात्रा करने से बचें।