Mumkin hai India

  • Gallery

    कोरोना संक्रमण से निबटने को एकजुटता के साथ संयम एवं सावधानी पूर्वक रहने की है जरूरत

    2021-05-14

    किशनगंज, 14 मई: बढ़ते कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए पूर्व की तरह बचाव से संबंधित कोविड गाइड लाइन का पालन करना बहुत जरूरी हो गया है। बढ़ते संक्रमण को रोकने के लिए जिलेवासियों से अपील करते हुए सिविल सर्जन श्री नंदन ने कहा विगत वर्ष की तरह एक फिर से कोविड गाइड लाइन का पालन करते हुए कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने के लिए आगे आने की जरूरत है। कोविड-19 संक्रमण के बढ़ते मामले को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने जिले के सभी स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों एवं कर्मियों को आवश्यक दिशा-निर्देश जारी करते हुए सतर्कता बढ़ाने की बात कही है। कोविड-19 जांच एवं टीकाकरण अभियान को लेकर समीक्षा बैठक के दौरान हर समय कहा जाता  कि वैश्विक महामारी से निबटने के लिए टीकाकरण कार्य में तेजी लाने की जरूरत है। हालांकि कोरोना जांच एवं टीकाकरण सत्र स्थलों पर सामाजिक दूरी का पालन करते हुए मास्क व सैनिटाइजर का प्रयोग करते रहना है।जिले में आज भी 139 व्यक्ति संक्रमित हुए हैं वहीं आज 179 संक्रमण से ठीक भी हुए है। जिले में कुल 1346 एक्टिव संक्रमित मरीज हैं।

    -जिले में प्रतिदिन 8920 लोगों के टीकाकरण का लक्ष्य: 
    सिविल सर्जन डॉ श्री नंदन ने बताया ज़िले के सभी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारियों को कोरोना टीकाकरण कराने के लिए अलग-अलग लक्ष्य दिया गया है। जिसके तहत बहादुरगंज को 1200, कोचाधामन को 1440, दिघलबैंक को 960, किशनगंज ग्रामीण को 600, किशनगंज शहरी 1360, पोठिया को 1320, टेढ़ागाछ को 720, एवं ठाकुरगंज को 1320 अर्थात पूरे जिले में 8920 लोगों का टीकाकरण के लिए लक्ष्य दिया गया है। जिसमें कल 1322 लोगो का ही टीकाकरण किया गया है। अभी तक जिले में 83947 व्यक्ति को प्रथम डोज एवं 28048 व्यक्ति को दूसरा डोज का टीकाकरण किया गया है। सत्र स्थलों पर 18 वर्ष से ऊपर के वैसे लाभुकों का टीकाकरण पहले किया गया जिन्होंने कोविन पोर्टल पर अपना पंजीकरण पूर्व में ही करा लिया था। लोगों ने टीका लेने के पूर्व ही कोविन पोर्टल या आरोग्य सेतु एप के माध्यम से स्वयं ही पंजीकरण करवाया है। पंजीकरण के समय अभ्यर्थियों के द्वारा आवश्यक कागज़ात यानी-आधार कार्ड, पासपोर्ट, पैनकार्ड व वाहन चालक प्रमाण पत्र को अपलोड करना होगा। उसके बाद उसी पोर्टल के माध्यम से पंजीकरण कराये लाभुकों को टीकाकरण केंद्र एवं एक निश्चित समय देना होगा। उसके बाद आप नज़दीकी टीकाकरण केंद्र पर जाकर टीकाकरण करवाना होगा।

    -सत्र स्थलों पर सभी जरूरी इंतजाम सुनिश्चित कराने का आदेश: सिविल सर्जन 
    सिविल सर्जन डॉ श्री नंदन के मुताबिक टीकारण सत्र स्थल के चयनित तीन कमरों का उपयोग किया जाना है। इसमें एक कक्ष लाभार्थियों को टीका लगाने के लिये, दूसरा कक्ष टीका लेने आये लाभुकों के लिये वेटिंग एरिया के रूप में व तीसरे कक्ष का उपयोग टीकाकरण के पश्चात 30 मिनट तक लाभुक की निगरानी व देखभाल के लिये चिह्नित होंगे। हर दिन टीकाकरण सत्र आरंभ होने से पहले अनिवार्य रूप से सैनिटाइज कराया जाना है। सत्र स्थलों पर पर्याप्त मात्रा में ग्लब्स् , मास्क, सैनिटाइजर की उपलब्धता सुनिश्चित करानी है। साथ ही वेटिंग रूम व आब्ज़र्वैशन रूम में पर्याप्त संख्या में कुर्सी व शुद्ध पेयजल की उपलब्धता सहित टीकाकरण के पश्चात बॉयोमेडिकल वेस्ट मैनजमेंट के उचित इंतजाम सुनिश्चित कराने का आदेश दिया गया है। 

    -होम आइसोलेशन में रह रहे मरीज़ों को ससमय दवा का किट कराई जा रही उपलब्ध: सिविल सर्जन  
    सिविल सर्जन डॉ श्री नंदन ने बताया अस्पताल के चिकित्सा पदाधिकारियों एवं स्वास्थ्य कर्मियों को कोविड-19 संक्रमित मरीज़ों के लिए हर प्रकार की दवाएं उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया है। क्षेत्र के किसी भी संक्रमित या अन्य मरीज़ों को किसी प्रकार की दिक्कत हो तो वे लोग मुझसे संपर्क कर सकते हैं। कोरोना जांच के बाद जितने लोग संक्रमित पाये जा रहे उनलोगों को होम आइसोलेशन में रखा गया है। इसके बाद उन मरीज़ों एवं परिजनों से लगातार संपर्क स्थापित कर हमारे पीएचसी के स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा अपनी सेवाएं दी जा रही हैं। कोरोना से संक्रमित मरीज़ों को अस्पताल प्रबंधन द्वारा दवाओं की एक किट के साथ अन्य सभी तरह की सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही है।