कोरोना से बचने के लिए टीकाकरण बेहद आवश्यक:

  

Mumkin hai India

  • Gallery

    टीकाकरण अभियान को लेकर ख़ुशी का माहौल, टीकाकरण के बाद भी संक्रमण से बचने के लिए रहना होगा सतर्क

    2021-05-13

    कोरोना से बचने के लिए टीकाकरण बेहद आवश्यक:

     

    सत्र स्थल पर लोगो को किया जा रहा है जागरूक

         

    पूर्णिया, 13 मई: ज़िले के सभी प्रखंड मुख्यालय स्थित उच्च विद्यालय एवं मिडिल स्कूल में 18 वर्ष से ऊपर के लाभार्थियों को कोविड-19 टीकाकरण की शुरुआत हो गई है। इस आयु वर्ग के युवा विगत 01 मई से ही संक्रमण से बचाव के लिए टीकाकरण का इंतजार रहे थे। उसके लिए कोविन पोर्टल पर अपना-अपना पंजीकरण कराने के बाद इंतजार कर रहे थे। मंगलवार से  जिले में 18 वर्ष से ऊपर आयु वर्ग के लोग खास कर युवा वर्ग में टीकाकरण अभियान की शुरुआत को लेकर ख़ुशी का माहौल जैसा दिख रहा था। 18 से 44 वर्ष तक के लोगों के कोविड-19 टीकाकरण की शुरुआत ज़िले के सभी स्वास्थ्य केंद्रों के अधीन चयनित स्कूलों में की गई है। सत्र स्थलों पर 18 वर्ष से ऊपर के वैसे लाभुकों का टीकाकरण पहले किया गया जिन्होंने कोविन पोर्टल पर अपना पंजीकरण पूर्व में ही करा लिया था। लोगों ने टीका लेने के पूर्व ही कोविन पोर्टल या आयोग्य सेतु एप के माध्यम से स्वयं ही पंजीकरण करवाया है। पंजीकरण के समय अभ्यर्थियों के द्वारा आवश्यक कागज़ात यानी-आधार कार्ड, पासपोर्ट, पैनकार्ड व वाहन चालक प्रमाण पत्र को अपलोड करना होगा। उसके बाद उसी पोर्टल के माध्यम से पंजीकरण कराये लाभुकों को टीकाकरण केंद्र एवं एक निश्चित समय देना होगा। उसके बाद आप नज़दीकी टीकाकरण केंद्र पर जाकर टीकाकरण करवाना होगा।


    -होम आइसोलेशन में रह रहे मरीज़ों को ससमय दवा का किट कराई जा रही हैं उपलब्ध: एमओआईसी 
    प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बैसा के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ रफ़ी ज़ुबैर ने बताया अस्पताल के चिकित्सा पदाधिकारियों एवं स्वास्थ्य कर्मियों को कोविड-19 संक्रमित मरीज़ों के लिए हर प्रकार की दवाएं उपलब्ध कराने के निर्देश दिया गया है। क्षेत्र के किसी भी संक्रमित या अन्य मरीज़ों को किसी प्रकार की दिक्कत हो तो वे लोग मुझसे संपर्क कर सकते हैं। कोरोना जांच के बाद जितने लोग संक्रमित पाएं जा रहे है उनलोगों को होम आइसोलेशन में रखा गया है। इसके बाद उन मरीज़ों एवं परिजनों से लगातार संपर्क स्थापित कर हमारे पीएचसी के स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा अपनी सेवाएं दी जा रही हैं। कोरोना से संक्रमित मरीज़ों को अस्पताल प्रबंधन द्वारा दवाओं की एक किट के साथ अन्य सभी तरह की सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही है।


    -कोरोना से बचने के लिए टीकाकरण बेहद आवश्यक: बीएचएम 
    वहीं बैसा पीएचसी के स्वास्थ्य प्रबंधक आलोक वर्मा ने बताया स्थानीय प्रखंड के रौटा गांव स्थित मिडिल स्कूल 
    परिसर में 18 वर्ष से ऊपर के सभी व्यक्तियों को कोविड-19 का टीका दिया जा रहा है। इस कार्य में केयर इंडिया टीम द्वारा शत प्रतिशत लक्ष्य प्राप्ति के लिए सत्र स्थल पर आवश्यक सहयोग किया जा रहा है। हालांकि स्थानीय स्वास्थ्य केंद्र 45 वर्ष से ऊपर के लोगों को प्रतिदिन टीकाकरण कार्य सुचारू रूप से चल रहा है। क्षेत्र के कई चयनित स्थलों पर वैश्विक महामारी से बचाव को लेकर सुबह से दोपहर तक कोरोना जांच की जा रही है। समय-समय पर ज़िले के वरीय अधिकारियों के द्वारा कोरोना जांच केंद्र एवं टीकाकरण के लिए बनाए गए सत्र स्थलों पर औचक निरीक्षण किया जाता है। इसके साथ ही टीकाकरण केंद्रों के निरीक्षण के दौरान कई तरह के आवश्यक दिशा-निर्देश भी मिलते हैं जिसका अनुपालन भी किया जाता है।


    -सत्र स्थल पर आने वालो को किया जा रहा है जागरूक: रोहित
    बैसा प्रखंड में कार्यरत केयर इंडिया के प्रबंधक रोहित कुमार सिंह ने बताया 18 वर्ष से 44 वर्ष तक के लोगों का कोविड-19 टीकाकरण राज्य सरकार द्वारा जारी आवश्यक दिशा-निर्देश के बाद मंगलवार से शुरू कर दिया गया है। सत्र स्थल पर आने वाले सभी लोगों को मास्क पहनना, अपने हाथों को हर आधे घंटे के अंतराल पर अल्कोहल युक्त सैनिटाइजर से धोते रहना है। अनावश्यक रूप से घर से बाहर नही निकलें जैसे कई महत्वपूर्ण सलाह दी जा रही है। टीकाकरण कराने वाले युवाओं खासकर महिला व पुरुषों को टीकाकरण केंद्रों पर मास्क पहन कर लाइन में खड़े होकर अपनी बारी का इंतजार करने के बाद ही कोविड के गाइडलाइन का पालन करते हुए टीकाकरण करवाया जा रहा है।


    कोविड-19 से बचने के लिए रखना होगा विशेष ध्यान:
    -मास्क का प्रयोग प्रयोग, अपने हाथों को हर आधे घंटे के अंतराल पर साबुन या सैनिटाइजर से साफ करें।

    -सामाजिक दूरी बनाकर करें अपने कार्यो का निष्पादन।

    -अपनी बारी आने पर टीकाकरण अवश्य कराएं।

    -बहुत ज़्यादा जरूरी होने पर ही घर बाहर निकलें।

    -बाहर निकलते समय अपने चेहरे को पूरी तरह ढक कर ही जाएं।

    -कार्य के दौरान अति आवश्यक वस्तु को ही छूने का करें प्रयास।

    -घर में रहें अनावश्यक रूप से बाहर न निकलें।