Mumkin hai India

  • Gallery

    किशनगंज: जिले में 18 से 44 वर्ष के लोगों का टीकाकरण शुरू ,जिले को प्राप्त हुई कोविशील्ड 4800 डोज

    2021-05-09

    किशनगंज , 09 मई: वैश्विक महामारी कोरोना के बढ़ते मामलो को लेकर स्वास्थ्य विभाग अलर्ट मोड पर है। प्रतिदिन कोरोना के नये स्ट्रेन से संक्रमितों की संख्या धीरे-धीरे बढ़ रही है। स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना संक्रमण से बचाव को लेकर टीकाकरण अभियान के पांचवे चरण में अब 18 वर्ष से 44 वर्ष के सभी लोगों का टीकाकरण का फैसला लिया है। 09 मई  18 वर्ष से 44 वर्ष के सभी लोगों के लिए टीकाकरण अभियान को लेकर जिले के सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र को दिशा निर्देश जारी कर दिए गए हैं। इसके पूर्व 60 वर्ष के ऊपर एवं 45 वर्ष से ऊपर गंभीर बीमारी से संक्रमित लोगों का टीकाकरण किया जा रहा था। जिले मे 18 से 44 वर्ष के लोगों का टीकाकरण रविवार से शुरू हो गया। इसके लिए जिले को कोविशील्ड वैक्सीन की 4800 डोज मिली है। इससे टीकाकरण अभियान को गति मिलेगा।

    18 से 44 वर्ष और उसके ऊपर के सभी व्यक्ति जरूर कराएँ टीकाकरण: सिविल सर्जन  

    सिविल सर्जन श्री नंदन ने बताया विभागीय निर्देशानुसार 09 मई से 18 से 44 वर्ष और उसके ऊपर के सभी व्यक्ति  सिर्फ अपना आधार कार्ड दिखाकर कोरोना का टीका ले सकते हैं। संक्रमण से बचाव को लेकर सभी के लिए कोविड-19 का टीका जरूरी है। मैं सभी से अपील करता हूँ कि अधिक से अधिक संख्या में आगे आकर टीकाकरण करवाएं। जिले के सभी प्राथमिक एवं सामुदायिक एवं सदर अस्पताल में कुल 08 स्थलों पर 18 से 44 वर्ष के लोगों का टीकाकरण किया जायेगा। इसके लिए उन्हें पहले से अपने आपको पंजीकृत करवाना अनिवार्य होगा। उन्होंने लोगों से अनुरोध किया कि- वे अपना पंजीकरण करवाते हुए अपना टीकाकरण अवश्य करवायें। वैसे लोग जिनको पंजीकरण करने में कठिनाई हो रही है उनका सहयोग करते हुए उन्हें पंजीकृत करें ताकि उनका भी कोविड टीकाकरण हो सके। इस आयु वर्ग में युवाओं की संख्या अधिक है। जिले के युवाओं को चाहिए कि वे अपना पंजीकरण तो करवायें ही साथ अपने आस-पास के इस आयुवर्ग के लोगों का पंजीकरण करवाते हुए सभी का टीकाकरण समय सुनिश्चित करवायें और आवंटित टीकाकरण सत्र एवं तिथि को कोविड का टीका अवश्य लें।

    जिले के सभी सभी प्राथमिक एवं सामुदायिक एवं सदर अस्पताल में  टीकाकरण केन्द्र किए गये है स्थापित: डॉ श्री नंदन 
    सिविल सर्जन डॉ श्री नंदन ने बताया जिले के सभी प्रखंडों में 18 से 44 वर्ष के लोगों के टीकाकरण के लिए सत्र स्थल स्थापित किये जायेंगे। प्रखंड स्थित स्वास्थ्य केन्द्रों पर इस आयुवर्ग के टीकाकरण नहीं किये जाने की जानकारी देते हुए कहा स्वास्थ्य केन्द्रों पर कोविड टेस्ट एवं अन्य चिकित्सीय कार्य संचालित रहते हैं। जिसके कारण भीड़-भाड़ से बचाव करते हुए जिले के सभी प्रखण्डों में इस आयुवर्ग के लोगों का टीकाकरण हेतु एक-एक सत्र स्थल चयनित करते हुए कल से जिले के सभी प्रखंडों में टीकाकरण कार्य आरंभ कर दिया जाएगा।

    प्रतिदिन सदर अस्पताल सत्र स्थल पर में 200 तथा प्राथमिक एवं सामुदायिक सत्र स्थल पर 100 लोगों का किया जाएगा टीकाकरण: सीएस 
    सिविल सर्जन डॉ श्री नंदन ने बताया जिले में 18 से 44 वर्ष के लोगों का टीकाकरण के लिए अस्पताल सत्र स्थल पर में 200 तथा प्राथमिक एवं सामुदायिक सत्र स्थल पर 100  लोगों का टीकाकरण किया जाएगा। इस प्रकार प्रतिदिन लगभग 1600 लोगों का टीकाकरण करने का लक्ष्य रखा गया है। सिविल सर्जन ने यह भी कहा कि- इस आयुवर्ग में युवाओं की अधिक संख्या है इसके लिए जिले के युवा उत्साहित भी हैं।

    बढ़ते संक्रमण की ताकत को तोड़ने के लिए बचाव से संबंधित गाइडलाइन का पालन जरूरी:
    जिला सिविल सर्जन श्री नंदन ने बताया, कुछ दिनों पूर्व तक हमारा जिला कोरोनामुक्त था तथा संक्रमित मरीजों की संख्या शून्य थी। किन्तु, देश के विभिन्न प्रदेशों में  कोविड-19 के बढते मामलो ने चिन्ता बढा दी है। ऐसे में बढ़ते संक्रमण की ताकत को तोड़ने के लिए सभी लोगों को पूर्व की भाँति बचाव से संबंधित गाइडलाइन का पालन करना जरूरी है। ताकि एकबार फिर से बढ़ते संक्रमण को विराम लगाया जा सके। इसलिए, मैं पूरे जिले वासियों से अपील करता हूँ कि पूर्व की तरह फिर से गाइडलाइन का पालन कर संक्रमण को रोकने के लिए आगे आएं और अपनी जिम्मेदारी निभाएँ। कोविड-19 संक्रमण के मामले  बढ़ते देख स्वास्थ्य विभाग ने सतर्कता बढ़ा दी है। वहीं, कोविड-19 जाँच एवं वैक्सीनेशन अभियान की गति तेज कर दी गई है। इसके अलावा जिस इलाके में संक्रमित मरीज मिले हैं, उस इलाके में कंटेनमेंट जोन बनाये गये है एवं जाँच की रफ्तार तेज कर दी गई है। जिले में दो नये संक्रमित मरीज मिले हैं। ऐसे में हमें सावधान और सतर्क होने की जरूरत है। हालाँकि, स्वास्थ्य विभाग संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए पूर्व से ही पूरी तरह अलर्ट मोड में है और संक्रमण पर रोकथाम के लिए हर आवश्यक कदम उठाये जा रहे हैं। किन्तु, संक्रमण पर रोकथाम तभी संभव है, जब हम भी संयम के साथ सावधान और सतर्क रहकर स्वास्थ्य विभाग का सहयोग करेंगे। इसलिए, बढ़ते संक्रमण पर विराम लगे, इसके मद्देनजर हर किसी को एकबार फिर से बीते वर्ष की तरह अपनी संयम और सावधानी की ताकत दिखाने की जरूरत है। क्योंकि, बीते वर्ष भी हम इसी ताकत से  इस वैश्विक महामारी के संक्रमण पर काबू पाने में काफी हद तक सफल रहे थे।