ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का सफलतापूर्वक परीक्षण

ओड़िशा : भुवनेश्वर अनुसंधान एवं विकास संगठन (ड़ीआरडीओ) द्वारा सोमवार को ओडिशा के तट पर  बालेश्वर जिले में चांदीपुर रेंज से ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल के जमीनी संस्करण का सफल परीक्षण किया। यह ऐसी क्रूज मिसाइल है जिसे थल, जल और हवा से दागा जा सकता है। इसकी मारक क्षमता अचूक है।

डीआरडीओ के आधिकारिक सूत्रों के अनुसार आज परीक्षण किये गये ब्रह्मोस मिसाइल में पूर्व की तुलना में अधिक स्वदेशी उपकरण लगाये गये हैं । 8.4 मीटर लंबी और 0.6 मीटर चौड़ी यह मिसाइल 300 किलोग्राम वजन तक विस्फोटक ले जाने में सक्षम है। यह ध्वनि की गति से भी 2.8 गुना तेज गति से मार करती है।

मौजूदा समय में चीन और पाकिस्तान के पास अभी तक ऐसी मिसाइल नहीं है, जिसे जमीन, समुद्र और आसमान तीनों जगहों से दागा जा सके। भारत और रूस इस मिसाइल की मारक दूरी बढ़ाने के साथ इसे हाइपरसोनिक गति पर उड़ाने पर भी काम कर रहे हैं।

आने वाले दिनों में भारत और रूस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस की रेंज को 290 किलोमीटर से बढ़ाकर 600 किलोमीटर करने की दिशा में काम करेंगे। इससे न केवल पूरा पाकिस्तान इसकी जद में होगा बल्कि कोई भी लक्ष्य पलभर में इस मिसाइल से भेदा जा सकेगा।

उल्लेखनीय है कि ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल भारत व रूस द्वारा संयुक्त रूप से विकसित किये जा रहे हैं। रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन इसमें स्वदेशी उपकरणों की मात्रा बढ़ाने की कोशिश कर रही है ताकि आयात मूल्य को कम किया जा सके ।

LEAVE A RESPONSE

Your email address will not be published. Required fields are marked *